Friday, May 16, 2014

कजरी बंजारन


 ट्रैफिक लाइट पर रुक कर अजनबी बंजारन से नज़र मिलना और उसकी मुस्कान से सुकून पा जाना...ऐसे अनुभव याद रह जाते हैं. सड़क के किनारे टिशुबॉक्स एक तरफ किए बैठी उस खूबसूरती को देखती रह गई थी, फौरन कैमरा निकाल कर क्लिक किया ही था कि उसकी नज़र मुझसे मिली....

पल भर के लिए मैं डर गई लगा जैसे रियाद में हूँ जहाँ सार्वजनिक स्थान पर फोटो खींचना मना है.. दूसरे ही पल  हम दोनों की नज़रें मिलीं और मुस्कान का आदान प्रदान हुआ तो चैन की साँस आई कि मैं अपने ही देश में  हूँ ...फिर भी बिना इजाज़त फोटो लेने की झेंप दूर करने के लिए चिल्लाई, " क्या नाम है तुम्हारा.....एक फोटो खींच लूँ?" सिर हिला कर वह भी वहीं से चिल्ला के कुछ बोली और फिर से मुस्कुरा दी.. बस 'ईईईईई' इतना ही सुनाई दिया....उसकी पोशाक और रंग देखकर ईईई से कजरी नाम का ही अनुमान लगाया...वह अपनी मासूम मुस्कान के साथ  मेरे दिल में उतर गई..

फोटो तो मैं पहले ही खींच चुकी थी लेकिन दिल किया कि कार एक साइड पर रोक कर उसीकी बगल में बैठ जाऊँ लेकिन उस वक्त ऐसा करना मुमकिन नहीं था. दुबारा उसी रास्ते से कई बार गुज़री लेकिन मुलाकात न हो पाई. कभी कभी ज़िन्दगी के किसी मोड़ पर किसी अजनबी से पल भर के लिए हुई एक मुलाकात भी भुलाए नहीं भूलती.

कमली(पागल) ही थी जो उसकी बगल में बैठने की चाह जगी थी... अचानक एक दिन पुरानी तस्वीरें देखते हुए अपनी एक तस्वीर पर नज़र गई. दमाम से रियाद लौटते वक्त कार खराब हो गई थी..पति वर्कशॉप गए और मैं घर के नीचे ही फुटपाथ पर बैठ गई थी. सामान के साथ फिर से ऊपर जाने की हिम्मत नहीं थी. उस तौबा की गर्मी में इंतज़ार आसान नहीं थी लेकिन हालात ऐसे थे कि चारा भी नहीं था. उसी दौरान न जाने कब छोटे बेटे ने तस्वीर उतार ली थी..

दुबारा उस तस्वीर को देखते ही कजरी बंजारन की याद आ गई. मुझमें और उसमें ज़्यादा फ़र्क नहीं लगा...
बच्चों जैसे खुश होकर दोनों तस्वीरों को मिला कर देखने लगी...तस्वीरों की समानता ने ही खुश कर दिया...
कितनी ही ऐसी छोटी छोटी खुशियाँ ज़िन्दगी को खुशगवार बना देती हैं..


मेरे देश का रेतीला रंगीला राजस्थान---वहाँ  के प्यारे लोग और उनका मनमोहक रहनसहन ...





4 comments:

ब्लॉग बुलेटिन said...

ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन यक लोकतंत्र है, वोट हमारा मंत्र है... मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

आशा जोगळेकर said...

ऐसी ही छोटी छोटी खुशियाँ जिंदगी को खुशी से भर देती हैं। तस्वीरों में वाकई काफी समानता है।

shikha kaushik said...

NICE POST .

प्रतिभा सक्सेना said...

ऐसी मीठी यादों से पुलक उठता मन ताज़गी से भर जाता है.