Tuesday, May 31, 2011

बाड़े में बन्द जीवन


गर्मियों के दिन हैं...सूरज डूबने पर ही बाहर निकलने की सोची जा सकती हैं...शाम होते ही बाहर निकले तो लगा जैसे सूरज हवाओं में घुल कर बह रहा हो .... बला की गर्मी लेकिन उस गर्मी को मारने के लिए ही निकले थे.... इन दिनों तरबूज़ और ख़रबूज़े जैसे फल अमृत समान लगते हैं...सालों से एक ख़ास जगह से ही फल खरीदते आए  हैं...शहर से कुछ दूरी पर एक वादी की तरफ़ जाते पक्की सड़क बन्द हो जाती है उसी के किनारे एक पिकअप गाड़ी में तरबूज़ों का ढेर लगा रहता है और नीचे छोटे छोटे बक्सों में ख़रबूज़े होते हैं....उसी गाड़ी के पीछे नज़र दौडाओ तो दूर एक टैंट हैं ,,,पानी का टैंक पड़ा है और कुछ दूरी पर शौचालय है.... एक तरफ बड़ा सा बाड़ा बना है भेड बकरियों को रखने का... ग़ौर करने पर देखा कि आजकल उनका मालिक आराम से बैठा रहता है ... झुंड का झुंड साँझ होते ही खुद ब खुद बाड़े में चली जाती हैं.... पहले यही भेड़ बकरियाँ बाड़े से बहुत दूर निकल जातीं... मालिक लाठी लेकर पीछे-पीछे भागता...ऊँची आवाज़ में गाली देता हुआ किसी एक को ज़ोर से मार देता....मार खाती भेड़ बकरी की तड़पती आवाज़ से पहले मेरे मुँह से चीख़ निकल जाती .... अक्सर ऐसा ही होता.. शाम ढलने का वक्त होता....लाठी से मार मार कर भेड- बकरियों को वह बाड़े के अन्दर कर रहा होता... हम कार में ही बैठे बैठे उसके आने का इंतज़ार करते...वह हाथ से बजा बजा कर तरबूज़ छाँट कर देता जो मिशरी सा मीठा निकलता....उसके उन्हीं हाथों से मुझे चिढ़ थी जिनमें हमेशा एक लाठी भी होती भेड़ बकरियों को हाँकने के लिए.... पति मेरे दुख को देख कर बड़े आराम से कह देते .... कुछ दिनों की बात है फिर वे अपने आप ही बाहर नहीं जाएँग़ी... उन्हें यही बाड़ा प्यारा लगने लगेगा... हुआ भी यही आज मालिक के हाथ में लाठी नहीं थी... वह आराम से पिकअप के पास एक कुर्सी पर बैठा था... सारी भेड़ बकरियाँ अपने आप ही बाड़े के अन्दर जा रही थीं ....शायद अब उन्हें लगने लगा है कि इससे बढ़िया जीवन और कहीं नहीं हो सकता या सोचती होंगी कि यही उनके जीवन की नियति है.....अचानक दिल से इक आह सी उठी .......!!!!  

Monday, May 30, 2011

चिट्ठाकारों को शत-शत प्रणाम (बदलाव के साथ)

यह उन दिनों की पोस्ट है जब हमने अभी नया नया ब्लॉग ही बनाया था... 28 सितम्बर 2007 की लिखी इस पोस्ट में कई ब्लॉग मित्रों का ज़िक्र है लेकिन लिंक करने की तकनीक नहीं जानती थी...शुरुआती दौर की कुछ पोस्ट पढ़ते पढ़ते ख्याल आया कि क्यों न लिंक लगा कर इस पोस्ट को फिर से पब्लिश कर दिया जाए... लेकिन एक ब्लॉग  मेरे लिए पहेली बन गया..समझ नहीं आया कि किसका ब्लॉग होगा इसलिए लिंक करने में असमर्थ हूँ. संजीवजी का आवाज़.....अगर आपमें से कोई पहचान ले तो बहुत अच्छा हो.....

अनिल रघुराज जी का लेख "हिचकते क्यों हैं, लिखते रहिए' पढ़कर आशा की किरण जागी कि "ब्लॉगिंग मिसफिट लोगों का जमावड़ा" नहीं है। हाँ कुछ सीमा तक बात सत्य हो सकती है क्यों कि जो पहले से ही इस क्षेत्र में अनुभव प्राप्त किए हुए हैं, वे ज़्यादा जानकार हैं । अपने बारे में यह कह सकती हूँ कि आसपास मेरी बात सुनने वाला कोई नहीं, पति को शिकार बनाती , लेकिन उन पर भी प्रभू की बड़ी कृपा है। बच्चों की पढ़ाई के कारण या कहिए उनका सौभाग्य कि हम दोनों अलग- अलग देशों में हैं। अनुभव होने लगा कि सुपर वुमेन बनते बनते घर के प्रति बेरुखी बढ़ती जा रही है सो अध्यापन का मोह त्याग कर ईमानदारी से घर-गृहस्थी का काम सँभालने का निश्चय किया।
दोनो बेटे अपनी अपनी दुनिया में मगन , पति को काम का नशा , अब सोचिए नारी मन पर क्या बीतेगी जो बात करना चाहे , पर कोई सुनना न चाहे। नई पोशाकों पर , नए आभूषणों पर, नए नए पकवानों पर बात करने वालों की कमी नहीं पर मन का क्या जो अपनी मन-पसंद की बात करना चाहता है। डायरी पर लिखना ऐसा जैसे गूँगे से बात करना । न प्रशंसा , न आलोचना ।
मानव प्रकृति ऐसी है जो मरते दम तक कुछ नया जानने सीखने की इच्छा रखता है। "हमारी अंदर की दुनिया के साथ ही बाहर के संसार में हर पल परिवर्तन हो रहे हैं।" (अनिल रघुराज) हर पल की जानकारी पाना मनुष्य का स्वाभाविक गुण है या कहिए अधिकार भी है। " तनावों से भरी आज की ज़िंदगी में लिखना अपने-आप में किसी थैरेपी से कम नहीं है।"(अनिल रघुराज) शत प्रतिशत सच है। कम से कम मेरे लिए तो ब्लॉगिंग सफल थैरेपी है।
ब्लॉगिंग से पहले मन विचलित रहता था। बीस साल पति के साथ रियाद में रही जहाँ बाहर के काम अक्सर घर के पुरुष ही करते हैं लेकिन दुबई आकर हर तरह से मुझे पति और बच्चों के पिता के उत्तरदायित्व भी निभाने पड़े ।अतीत की यादें पीछा न छोड़तीं। घर के काम अधूरे मन से होते तो अपराध बोध सताता । अब स्थिति अलग है। सुबह ६ बजे से रात ११ बजे तक के काम बँध गए। किस्सा कुर्सी का है कि बाकि काम खत्म करके शीघ्र ही कुर्सी पर आ जमो और लेखन लोक में आनन्द से विचरो। सच मानिए पहले कभी फुर्सत ही नहीं थी कि जाना जाए कि ब्लॉगिंग का सही अर्थ क्या है। पति वर्ड प्रेस पर एक ब्लॉग बनाकर बोले थे कि कुछ लिखो तब समय नहीं था या कहिए इस बारे में गंभीरता से सोचा भी नहीं था।
चिट्ठाजगत में हर दिन नए नए विषय उपलब्ध हैं। मेरे लिए तो ऐसा है जैसे बहुत से स्वादिष्ट व्यंजन एक साथ परोस दिए हों। समीर जी का लेख "गुणों की खान- मोटों के नाम" हास्य के साथ-साथ हौंसला दे देता है। "जाओ तो ज़रा स्टाईल से " पढ़ कर लगा कि हम अकेले ही नहीं है ऐसी बात करने वाले।
ईरान गए अपनी ईरानी सखी के पिता के चालीसवें पर , कब्रिस्तान की खूबसूरती देखकर अपनी विदाई का इंतज़ाम करने के लिए पूछ ही लिया कि क्या हम भी थोड़ी सी ज़मीन खरीद सकते हैं तो पता चला कि उनके पिताजी को उनकी बहन ने अपने नाम की जगह दी थी। सखी गुस्से से मेरी ओर देख कर बोली थी, 'तू बीशूर हस्त' । मैं सच में जानना चाहती थी लेकिन मुझे 'क़फेशोद' कह कर चुप करा दिया। जब इस बात की चर्चा परिवार और मित्रों में हुई तो हमें सनकी पुकारा गया। चिट्ठा जगत में कोई रोक-टोक नहीं , अपनी भावनाओं को दिखाने का पूरा अवसर मिलता है।
अब तो ऐसा लगता है जैसे अंर्तजाल आभासी दुनिया का दीवान-ए-आम है। जहाँ रोज़ सभा में कोई भी आकर बैठ सकता है । विचारों के आदान-प्रदान का स्वागत होता है। एक टिप्पणी मिलने की देर है आपको ढेरों रचनाएँ पढ़ने का अवसर मिल जाएगा।
अभी कुछ देर पहले मेरी रचना पर टिप्पणी करने वालों के चिट्ठे पर जाना हुआ। श्री हरे प्रसाद उपाध्याय के चिट्ठे में लेख 'कवि एथुदास' पढा , बस कुछ पंक्तियाँ मन को छू गईं - "मान-सम्मान और स्थापित होने की चिंता में तुम अमानवीय होकर रह गये हो। दिन-रात अपना झंडा गाड़ने की फिराक में लगे तुम कितने हास्यास्पद हो गये हो, इसका पता भी है तुझे! चिड़िया, फूल, पत्ते सबसे तुम जुड़े, लेकिन अपनी महत्वाकांक्षा साथ लेकर। महत्वाकांक्षा लेकर प्यार नहीं किया जाता कवि। समर्पण के साथ प्यार होता है। खुद को मिटाना पड़ता है। और तुम हो कि दुनिया को मिटाना चाहते हो खुद के लिए।"


संजीँव जी के ब्लॉग 'आवाज़' में लेख "दुनिया को जीत लेने का जज्बा रखने वाला शख्स जिंदा लाश बन गया है" पढ़ा। उन्हें कैसे बताऊँ कि इस रोग के  कई मरीज़ देवेन्द्र जी से भी बुरी स्थिति में है।


 डिवाइन इंडिया ब्लॉग में दिनकर जी की एक सुंदर पंक्ति पढ़कर मन में कुछ करने की ललक जाग उठी।
"इच्छा है, मैं बार-बार कवि का जीवन लेकर आऊँ,
अपनी प्रतिभा के प्रदीप से जग की अमा मिटा जाऊँ॥"
संजीत जी 'आवारा बंजारा ब्लॉग में  'कुछ अपनी' में एक ही क्लिक से अपने देश के बारे में इतना कुछ पढ़ने को मिल गया कि आनन्द आ गया।
अभिनव जी की निनाद गाथा में रेडिया सलाम नमस्ते सुनकर तो हम दंग रह गए।  पारुल जी ने अपने लेखन से ही नहीं अपनी मधुर आवाज़ से भी मन जीत लिया। अर्बुदा की कविता में छायावाद का सुन्दर रूप दिखने पर युनिवर्सिटी के पुराने दिन याद आने लगे जब कवि जयशंकर प्रसाद की कविताओं का पाठ किया करते थे। देवाशीष जी की बुनो कहानी में जाकर कहानी लिखने का पुराना शौक जाग उठा। यही नहीं वहाँ सभी लिखने वालों को पढ़ा । लगा कि अभी बहुत कुछ जानना सीखना है।
संजय पटेल जी का लेख 'फब्तियाँ कसने वाले भूल जाते हैं कि जीत दिलाने वाला एक मुसलमान भी है' पढ़कर मन प्रसन्न हो गया। "राजनीति से जितना दूर रहें..वही बेहतर है आज के माहौल में... लेकिन गर हर आदमी यही सोचेगा तो भी कुछ भला नहीं होने वाला है...कीचड़ साफ करने के लिए कीचड़ में उतरना ही होगा" राजीव तनेजा जी की टिप्पणी ने ही सोचने पर विवश कर दिया कि किसी हद तक हम भी दोषी हैं।
यतीष जैन जी का क़तरा-क़तरा में कई अच्छी कविताओं ने मन पर निशाँ छोड़ दिए उनमें से 'खाली है पोस्ट' अच्छा हास्य व्यंग्य है और हम सब को संदेश भी मिलता है कि ज़ीरो को चिड़ाने का अवसर नहीं देना चाहिए। शास्त्री जी का सारथी ही नहीं , उनसे जुड़े कई चिट्ठों से दुनिया भर की जानकारी मिलती है।
मन मेँ उठे भाव तो उन्हें आपके साथ बाँट लिया अगर बेकार लगें तो पढ़ना बन्द कर दें पर नाराज़ न हों।

Sunday, May 29, 2011

यही तो सच है......


पिछली पोस्ट 'आख़िरी नींद की तैयारी' जितनी बेफ़िक्री से लिखी थी ...टिप्पणियों ने उतना ही बेचैन कर दिया...सभी मित्रों से निवेदन है कि अपने मन से किसी भी तरह की शंका को निकाल दें कि हम निराशा के सागर में गोते खाते हुए इतनी लम्बी  पोस्ट लिख गए.... होश और हवास में खूबसूरत चित्र इक्ट्टे किए थे...
एक खूबसूरत  लिंक भी जोड़ा था लेकिन शायद किसी ने खोला भी न हो.......सबने सोच लिया कि मैं निराशा में डूबी किसी बात से दुखी हूँ ...... सुख दुख तो सबके साथ हैं ..... ज़िन्दगी जीने का  मज़ा ही दोनों के साथ है..... यकीन मानिए वह पोस्ट दुख , निराशा या मौत से डर कर नहीं लिखी थी... बल्कि सच में ही मौत के स्वागत की तैयारी करना अच्छा लगा सो लिख कर आप सबके साथ बाँट लिया....


आज नहीं इस विषय पर तो अक्सर सोचते हैं........बहुत पहले 2007 में ईरान में भी ऐसा कुछ सोचा था.. वहाँ से वापिस आने पर कुछ कहती उससे पहले ही जाने कैसे...वैसा ही कुछ ज़िक्र बेटे ने कर दिया......माँ हूँ इसलिए थोड़ा सा घबराई थी उसकी बात सुनकर ..... लेकिन फिर अपने आप को सँभाल लिया...."यही तो सच है मम्मी....." उस वक्त बेटे ने कहा था.....इस बार मेरी पोस्ट पढ़ कर पति ने भी वही कहा.... " बस यही तो सच है बाकि सब झूठ" और हॉंगकॉंग की बात बताने लगे.... जहाँ अवशेष रखने  के छोटे छोटे लॉकर रखने की जगह भी कम पड़ रही है....उन दिनों उड़नतश्तरी के समीरजी ने भी एक पोस्ट "जाओ तो ज़रा स्टाईल से " लिखी थी....

पिछली पोस्ट लम्बी हो गई थी...... इसलिए कुछ लिखना बाकि रह गया था..... :) चाह कर भी लिखने से रोक नहीं पा रही.... लिख ही देती हूँ .......आजकल बहुत कम लोग नीचे ज़मीन पर बैठ पाते हैं इसलिए पहले से ही सफ़ेद चादरों से सजे सोफ़े हों पर बैठने की व्यवस्था हो तो आराम से बैठ कर अफ़सोस कर पाएँगे सब ..... ख़ाने पीने का पूरा इंतज़ाम खुद के घर में ही हो.... बड़े बड़े शहरों में लोग एक दूसरे को हल्की सी मुस्कान तो दे नहीं पाते फिर खाने पीने का इंतज़ाम तो दूर की बात है.....

अपने दिल के नज़दीकी छोटे छोटे शहर याद आ गए जहाँ सालों बाद जाने पर भी अपनापन सा लगता है.... बल्लभगढ़ में ननिहाल ... अम्बाला में ससुराल...  एक बात समझ नहीं आती... अपने आप को छोटे शहर का कह कह कर क्यों छोटे शहर के लोग हीन भावना से ग्रस्त रहते हैं..... जानते नहीं शायद...कि छोटे छोटे गिफ्ट पैक्स में बड़ी बड़ी कीमत वाले तोहफ़े होते हैं... सोना, चाँदी और हीरे जैसे दिल वाले लोग अपनी ही कीमत नहीं आँक पाते....

लिखते लिखते बचपन याद आ गया जब मम्मी जेबीटी की ट्रेनिंग के लिए पलवल गई और मुझे नानी के पास छोड़ गईं.... एक साल के लिए नाना नानी के पास रहना मेरे लिए ज़िन्दगी का बेशकीमती वक्त था....सूरज उदय होने से पहले और सन्ध्या होने पर नानी की आवाज़ में गीता का पाठ किसी अलौकिक दुनिया में पहुँचा देता....रात छत पर बिस्तर लगाना....नानी की गोद में सिर रखना.....तारे गिनते गिनते गीता के श्लोक पाठ और उसकी व्याख्या सुनना..... सब आज भी याद है.... शायद इसलिए भागवतगीता में ही जीवन जीने का सार दिखाई देता है.... आज बस इतना ही ......

बड़े बेटे वरुण ने बाँसुरी  पर दो अलग अलग धुनें बजाईं और उन्हें मिक्स कर दिया.... नाम दिया  (Disease and Rainbows)  विद्युत द्वारा ईरान में ली गई तस्वीरों के साथ  वरुण की धुन को मिला कर एक छोटी सी संगीतमय फिल्म बना दी. दोनों की इजाज़त से ही यहाँ पब्लिश कर रही हूँ ...  सुनिए  और  बताइए कैसी लगी यह फिल्म .......

video





Wednesday, May 25, 2011

आख़िरी नींद की तैयारी

चित्र नेट द्वारा 

पिछले दो दिनों से तबियत कुछ ऐसी है कि आधी रात गहरी नींद में लगने लगता है जैसे दिल की धड़कन रुक जाएगी.. कोई खास बीमारी भी नहीं है जिस कारण चिंता हो .... .शायद थायरोएड....या फिर गालबलैडर में स्टोन...जो अभी दर्द ही नहीं देता तो उस तरफ कभी ख्याल ही नहीं गया....
आजकल अपने आप से ज़्यादा बातचीत होती है ...अपने आप से बात करने का कितना आनन्द है... कुछ भी ...कैसा भी... कह दो ....मन चुपचाप सुनता है... दरवाज़ा खोल कर बाहर आ गई...आधी रात के आसमान पर चाँद तारे दिखाई नहीं दे रहे थे...बादलों की या शायद धूल की हल्की चादर सी फैली थी... ठंडी हवा भी एक अजीब से सुकून के साथ बह रही थी...
यही हवा सूरज के सामने कैसे व्याकुल सी हो भागती है इधर उधर .... सूरज की याद आते ही रेगिस्तान के मृगतृष्णा की याद आ जाती है... जो सूरज से जन्म लेती है और उसी के साथ ही कहीं गुम हो जाती है....रात के काले साए याद दिलाते हैं कि वह तो एक खूबसूरत भ्रम होता है......जैसे ये दुनिया .... कितनी खूबसूरत है ...मेरी है....नहीं शायद ये दुनिया किसी की भी नहीं...फिर भी हम इस खूबसूरत भ्रम से कितना मोह करते हैं...मेरे विचार में मोह होना भी चाहिए... जब तक साँसों में गर्मी है......इस खूबसूरत भ्रम में जीने का आनन्द भी है.....
चित्र नेट द्वारा 

चंचल मन जाने कहाँ कहाँ दौड़ता है.....उसकी सोच की कोई सीमा नहीं...सोचने लगा ज़िन्दगी को खूबसूरत बनाने के लिए दिन रात कोल्हू के बैल की तरह लगे रहते हैं... फिर मौत के स्वागत के लिए क्यों न कुछ तैयारी की जाए...अगर अचानक यहीं साँस रुक गई तो....यहाँ से अपने देश तक पहुँचने में ही महीनों लग जाएँगे, हाँ अगर वास्ता काम कर गया तो जल्दी पहुँच जाऊँगी अपने वतन...
पहली बार जब ईरान गई थी तो वहाँ की खूबसूरती देख कर लगा था बस आखिरी नींद के लिए यही जगह जन्नत है..... लेकिन वहाँ के कानून कायदे ऐसे कि मन मसोस कर रह जाना पड़ा ...भला हो ब्लॉग जगत के मित्रों का ...जिनके कारण अपने ही देश के हज़ारों सुन्दर कोनों के दर्शन हो गए... अब आराम करने के लिए किसी भी खूबसूरत जगह को चुना जा सकता है....
चित्र नेट द्वारा 

घर के पास के शमशान घाट पर पारम्परिक रूप में जला दिया जाए तो सबको आराम रहेगा... कहीं दूर नहीं जाना पड़ेगा... फिर सोचा एक मरे हुए इंसान के लिए पता नहीं कितने पेड़ों की हत्या करनी पड़ेगी..... उस पर घी तेल की अलग बरबादी...फिर प्रियजनों को तेज़ आग के आगे खड़ा होना पड़ेगा...कितनी गर्मी लगेगी उन्हें....जून जुलाई हुआ तो... वैसे मरने की तारीख तय कहाँ होती है... पता नहीं मौत भी क्यों हर बार ब्लाइंड डेट पर ही निकलती है......
जल समाधि कैसी रहेगी... ओह... जी घबराने लगा सोच कर ..पानी से बहुत डर लगता है ... खास कर नदी और समुन्दर के किनारे पर खड़े होकर ही लगने लगता है कि जैसे उनकी अनदेखी बाहें अपनी ओर खींच रही हों... .एक बार अखबार में पढ़ा था कि जब बिजली शमशान नहीं हुआ करते थे...तब निगम बोध घाट के आस पास के गाँवों की औरतों को जो बच्चे पैदा करते हुए जान से हाथ धो बैठती .या किसी बीमारी के कारण बच्चे चल बसते उन्हें नदी में बहा दिया जाता था... अपने जाल में फँसे हुए मृत शरीरों के टुकडों को देख कर बेचारे मछुआरे दुखी हो जाते.... कभी कभी तो बड़ी मछली को देख कर जितना खुश होते... उससे ज़्यादा दुखी होते उनके अन्दर इंसान के अंगों को देख कर........
सैर करते करते सोच रही थी या सोचते सोचते सैर कर रही थी...... अचानक बच्चों की तस्वीर सामने दिखी...बच्चो को देख कर पति याद आ गए.... पल भर में ही उनके मोहजाल ने जकड़ लिया .... पैरों से जैसे ज़मीन खिसकने लगी...शरीर में से सारी ताकत रुई के फोहों सी उड़ने लगी.....बच्चों के कमरे में आकर बैठ गई..... ध्यान हटाने के लिए नेट खोल लिया... अक्सर बच्चों की और कुदरत के नज़ारों की तस्वीरें देखना अच्छा लगता है और मन ठीक हो जाता है ....
ईरान (रश्त)


मन चंगा तो कठौती में गंगा.... बस दिमाग में बिजली कौंधी...शरीर की एक दो बीमारी को छोड़ कर सब पुर्ज़े सही सलामत ही हैं.... चिकित्सा जगत में अगर कुछ काम आ सके तो इससे बढ़िया कोई बात नहीं... उसके बाद शरीर को गत्ते के डिब्बे में मलमल की चादर से लपेट कर आधुनिक बिजली शमशान ले जाया जाए....लकड़ी के साँचे में अपने आप को बँधना कतई पसन्द नहीं...सबकी अपनी अपनी पसन्द है...कास्केट या डिब्बा जिसमें आराम से लेटा जा सकता है....साधारण सा हो और उसपर बच्चे अगर कोई कलाकारी कर दें तो क्या कहना ....

चित्र नेट द्वारा 


बिजली शमशान के चैम्बर के अन्दर लगभग दो ढाई घंटे में ही 1400 से 1800 डिग्री फ़ॉहरनाइट तापमान में शरीर पंचतत्व में विलीन हो जाता है.....अग्नि , वायु , धरती , आकाश और जलतत्व में से आत्मा कैसे कब और कहाँ जाती होगी.... यह पता ही नही चलता... शायद उस वक्त पता चले..... मिट्टी के कलश में अपने शरीर की मिट्टी.... उसे कहाँ उड़ेला जाए... मन की इस चाह को न कहा जाए तो उसे शांत करने की राह कहाँ मिलेगी......मिट्टी का कलश एक घर में है जो मुझे बहुत पसन्द है......उसे भी इस्तेमाल किया जा सकता है...
घर का कलश 

लेटिन भाषा में अफ़ीम को नींद लाने वाली वनस्पति "sleep-bringing poppy" कहा जाता है.....आखिरी नींद को ज़्यादा से ज़्यादा गहरी करने के लिए अस्थि कलश को अगर उन खूबसूरत खेतों में बिखेर दिया जाए तो कैसा हो.....सदा के लिए सपनों की दुनिया में रहने के लिए निद्रा देवी को प्रसन्न करना कितना आसान हो जाएगा... अफ़ीम का ज़िक्र करना अगर किसी को बुरा लगे तो माफ़ करिएगा.... क्यों कि दर्द निवारक औषधि ‘मॉरफिन’ बनाने के लिए अफ़ीम का भी इस्तेमाल किया जाता है....कुदरत की हर देन वरदान ही होती है, हम इंसान ही उसे अभिशाप में बदल देते हैं....
चित्र नेट द्वारा 

वाह ...जहाँ चाह ...वहाँ राह ..... अभी अभी एक लिंक दिखा.... आप भी देखिए.... ‘माई फंकी फ्यूनरल’..इसमे तो बहुत रोचक जानकारी है .... एक इंसान की राख से 240 पैंसिलें बन सकती हैं...बच्चे कलाकार है तो बरसों तक पैंसिलें इस्तेमाल करके याद करेंगे... वैसे देखा जाए तो सभी एक से बढ़कर एक आइडिया है...
चित्र नेट द्वारा

साँसों का पैमाना टूटेगा
पलभर में हाथों से छूटेगा

सोच अचानक दिल घबराया
ख्याल तभी इक मन में आया

जाम कहीं यह छलक न जाए
छूट के हाथ से बिखर न जाए

क्यों न मैं हर लम्हा जी लूँ जीवन का मधुरस मैं पी लूँ

Monday, May 23, 2011

सीख जो दीनी वानरा , तो घर बया को जाए.... !



मम्मी एक कहानी सुनाया करती थी , बया और बन्दर की... बचपन में ही नहीं.... किशोर हुए तब भी ...फिर यौवन की दहलीज पर पाँव पड़े तो भी वही कहानी... माँ हमेशा किसी कहानी , मुहावरे या लोकोक्ति के बहाने बहुत कुछ कह जाती....कभी कभी हमें बहुत गुस्सा आता कि सीधे सीधे कह लो... तमाचा लगा दो... लेकिन ऐसे भिगो भिगो कर ........ मारना कहाँ का न्याय है...
मन की बातें मन ही रह जाती...सच कहें तो उनकी बातों का असर भी बहुत होता....मजाल कि एक ही गलती फिर से हो जाए .... लेकिन होशियार रहने पर भी नई गलती अपने आप ही हो जाती... डैडी अक्सर पक्ष लेकर कहते ....इंसान तो गलतियों का पुतला है ......लेकिन उस वक्त मम्मी के सामने कोई ठहर न पाता... गलतियाँ भी तो कुछ कम न होतीं....उन्हें लगता हम बच्चे जानबूझ कर उन्हें सताने के लिए गलती करते हैं  ... बार बार उनका दिल दुखाते हैं....... दुखी दिल से कभी कोई कहानी कहतीं तो कभी दोहा गुनगुना देतीं....
“बया पक्षी बड़े प्यार से अपने बच्चों के लिए घौंसला तैयार करता है ताकि भविष्य में आँधी तूफ़ान बारिश से बचा जा सके....एक एक तिनका चुनकर बड़े जतन से नीड़ तैयार करता है.... घौंसला तैयार होते ही अपने बच्चों के साथ सुख शांति से रहने लगता है..
एक दिन मूसलाधार बारिश हो रही थी.....बया पक्षी को बाहर किसी बन्दर की बेचैन और परेशान करे देने वाली आवाज़ सुनाई दी.... उसने अपने घौंसले से बाहर झाँक कर देखा....एक बन्दर बारिश में भीग रहा था.... बारिश से बचने के लिए पेड़ की शाखाओं में छिपने की कोशिश कर रहा था...
बया को उसकी हालत पर तरस आ रहा था ...उससे रहा न गया .... अपनी तरफ से सहानुभूति जतलाते हुए उसने बन्दर से कहा कि अगर उसने भी समय रहते अपने लिए कोई ठौर ठिकाना बनाया होता तो आज उसे इस तरह तेज़ बारिश में भीगना न पड़ता और इधर उधर भटकना न पड़ता.... अपना घौंसला दिखाते हुए बया ने कहा कि समय रहते उसने मज़बूत घौंसला बना लिया और अब उसके बच्चे सुरक्षित हैं....बन्दर ने इसे अपना अपमान समझा , उसके अहम को चोट लगी...उसने गुस्से में आकर बया के घर को तोड़ दिया...” 

बार बार सुनते सुनते कहानी जैसे अंर्तमन में रच बस गई है....
“सीख ऐसे को दीजिए , जाको सीख सुहाए,
सीख जो दीनी वानरा, तो घर बया को जाए !“ 

Friday, May 20, 2011

रेगिस्तान का रेतीला रूप

(28 मई 2009 का ड्राफ्ट)


दूर दूर तक फैले
रेगिस्तान का रेतीला रूप
निहारा... सराहा.... महसूस किया
जैसे हो माँ का आँचल
लहराता... बलखाता....
अपने आगोश में लेता....
सूरज जलता सा उतरता
अपनी गर्मी से तड़पाता
धरती के अधर सुखाता 
रोम रोम रूखा हो जाता
वसुधा को प्यासा कर जाता
प्यासी दृष्टि में आस जगाता

रियाद शहर से बाहर का रेगिस्तान

Thursday, May 19, 2011

डायरी के पुराने पन्ने


कुछ पुराने ड्राफ्ट जिन्हें एक एक करके मुक्त करने की सोच रही हूँ ....  यह सबसे पुराना ड्राफ्ट 3 जुलाई 2008 का लिखा हुआ  है..... जस का तस पब्लिश कर रही हूँ .... कुछ ड्राफ्ट अधूरे हैं उन्हें पोस्ट करने से शायद वे भी अपने आप में पूरे हो जाएँ..... 
इस वक्त शाम के 6 बजे हैं. छोटा बेटा दोस्तों के साथ बाहर है ... बड़ा बेटा वरुण और हम घर में ...कई दिनों के बाद आज मौका मिला कि इत्मीनान से कुछ लिखें लेकिन पढ़ने का मोह लिखने से रोक देता है. अभी की बात ही लीजिए... ज्ञान जी की पोस्ट पढ़ कर हम सोचने पर मज़बूर हो गए... " कोई मुश्किल नही है इसका जवाब देना। आज लिखना बन्द कर दूं, या इर्रेगुलर हो जाऊं लिखने में तो लोगों को भूलने में ज्यादा समय नहीं लगेगा।"
हम अपनी बात करें तो इस बात का बिल्कुल भय नहीं है क्योंकि हम उलटा सोचते हैं...कोशिश में रहते हैं कि हम किसी को भूलें... अच्छी बुरी यादों के साथ सब हमारे दिल में रहें... हम किसी के दिल में हैं या नहीं... किसी को हमारी ज़रूरत है कि नहीं इससे ज़्यादा ख्याल यह रहे कि दूसरे को लगता रहे कि उसकी ज़रूरत हमें है......

ब्लॉग जगत के बारे में सोचते हैं... अच्छा लगता है पढ़ना , जानना, समझना,,, इसी में ही वक्त बीत जाता है और लिखने की बस सोचते ही रह जाते हैं. ज्ञान जी की पोस्ट पढ़ने के बाद समीर जी की छोटी सी पोस्ट पढ़ने को मिली.... छोटी सी लेकिन भाव बहुत बड़ा लिए हुए .... सोचने लगे  कि हम 'हैरान पाठक ' तो हैं ही साधारण से  'हिन्दी ब्लॉगर' भी हैं .... सब काम छोड़कर लिखने बैठ गए..सोचा कि आँखें खराब होने पर भी समीर जी अगर छोटी सी पोस्ट ठेल सकते हैं तो क्यों हम  भी एक पोस्ट डालकर दोस्तों को बोर कर दें.. ..
सुखनसाज़ में हुसैन भाइयों की गज़ल सुनते सुनते शुरु हुए... बहुत दिनों पहले लिखी हुई कई रचनाएँ जो सिर्फ डायरी के पन्नों में ही कैद हैं ...उनकी याद गई.... विचार आया कि क्यों उन पुराने पलों को पन्नों की कैद से मुक्ति दे दी जाए लेकिन किश्तों में ही .... बहुत पुरानी बात याद रही है जब छोटे बेटे की बाहरवीं का रिज़ल्ट आना था .... आलोक जी की एक पोस्ट "टीचर की डायरी" पढ़कर अपने दोनों बेटों की याद गई जिन्हें हमने कभी नहीं कोसा कि 90% अंक लाने वाले बच्चों में उनका शुमार क्यों नहीं.... लाइफ के झटकों को झेलने के लिए मजबूती जिस व्यक्तित्व से आती है, वह गढ़ने का काम हो कहां रहा है।स्कूल बिजी हैं टापर गढ़ने में। पेरेंट्स बिजी हैं सुपर टापर बनाने में। व्यक्तित्व विकास के बुनियादी तत्व कहां से आयेंगे 


रेडियोनामा पर विविध भारती

कल पहली बार रेडियोनामा पर विविध भारती सुना


कल से ही रेडियोनामा पर विविध भारती सुन रहे हैं.....फेसबुक का पेज खुला था इसलिए तुरंत यूनूस साहब की वॉल पर धन्यवाद का सन्देश दिया..पता चला कि एक तकनीकी जानकार रोहित दवे जिन्होंने निस्वार्थ भाव से नेट पर विविध भारती को लाने का काम किया है...उनको भी धन्यवाद किया... 


Yunus Khan मेरा छायागीत रविवार को होता है। मैं तकनीकी लोगों Rohit Daveकी चर्चा इसलिए कर रहा हूं क्‍योंकि ये उन्‍होंने निस्‍वार्थ किया है। बिना किसी आर्थिक उम्‍मीद के। आज के ज़माने में ऐसा कहां होता है। हम कम से कम सलाम तो करें ऐसे लोगों को।


बाज़ार से म्यूज़िक सीडी खरीद सकते हैं....नेट से मुफ़्त में कई गाने डाउनलोड कर सकते हैं...लेकिन विविध भारती सुनने का आनन्द बयान नहीं किया जा सकता... एक अजीब सा एहसास मन को घेर लेता है... शायद बचपन के दिन याद आ जाते हैं जब छायागीत और हवामहल सुनते सुनते नींद आ जाती और रेडियो बजता ही रह जाता....सुबह मम्मी की डाँट से नींद खुलती... और रेडियो बन्द होता.... 

कई दिनों से मन खाली प्याले सा था....आज विविधभारती ने बचपन की याद दिला दी.... 
बचपन याद आया तो साथ लाया बचपना....गीत सुनते हुए लैपटॉप और कैमरा उठा कर बाहर निकल आए...
  काले आसमान के माथे पर गोल बिन्दिया सा चमकता चन्दा दिखा.... अपने माथे पर सजाने की चाहत से उसे आसमान के माथे से उतारना चाहा.... हाथ नहीं आया..... उंगलियों की आँख बना कर उसके अन्दर चमकती पुतली की तरह रख दिया......  उसे कैमरे में कैद कर लिया.... मन खुशी से झूम उठा... पचास में पन्द्रह का बचपना ..... वैसे देखा जाए तो उम्र के सभी पड़ाव मन के अन्दर कहीं किसी कोने में छिपे बसे रहते हैं.... वक्त नहीं मिलता उन्हें देखने का... या शायद हम देखना ही नहीं चाहते......
फेसबुक पर Sanjay Patel लिखते हैं अपनी वॉल पर " एक कटु यथार्थ>हम अपनी ज़िन्दगी की उलझनों में शरारतें करना भूल जाते हैं और कहने लगते हैं कि हम तो बड़े हो गये..आपको नहीं लगता कि महीने दो महीने में हमें बच्चा बन जाना चाहिये ?(काश! ऐसा हो पाता)"

वहाँ आया एक कमेंट अच्छा लगा आप भी देखिए... 

Tankeer Wahidi आसान है, बचपन का सरल अर्थ है निश्चल मासूम होना, जैसे-जैसे हम बडे होते हैं मन चालाक होता जाता है, ये चालाकियां बचपन से दूर ले जातीं हैं, अपने मन से छल कपट और चालाकियों को अलविदा करना शुरु कर दें बचपन पास आता जायेगा हां आयु तो अनुगामी है, किंतु अवस्था सामर्थ्य पर निर्भर है. हां आसान नहीं अपने चेहरों को गिरा देना किंतु यदि कर सको तो शुभ है. 


 बचपन सभी  जीना चाहते हैं... पर जाने क्यों नहीं जी पाते.....  सोचिए.... समझाइए....... 
इन तस्वीरों को भी देखिए..... 




अपने माथे पर सजाना चाहा चन्दा को गोल बिन्दिया सा 


लाख कोशिश करने पर भी हाथ न आया चन्दा 


उंगलियों की आँख में कैद किया चमकती पुतली सा 

Saturday, May 14, 2011

आज के दिन एक फूल खिला ...


हमारे घर के आँगन में खिले दो फूल 

आज बड़े बेटे वरुण का जन्मदिन है.....सुबह सुबह विजय सोए हुए वरुण के माथे पर हाथ फेर कर निकल गए ऑफिस के लिए......दरवाज़ा खुलते ही सूरज की तीखे तेवर को सहन न कर पाई और वहीं से विदा करके उन्हें अन्दर आ गई...सुबह के सवा छह बजे थे लेकिन सूरज को देख कर लग रहा था जैसे दोपहर हो गई हो....बेटे के कमरे में गई.....उसे निहारा...मन ही मन आशीर्वाद दिया......
रसोईघर में गई...पानी पीकर कुछ पल डाइनिंग टेबल पर बैठी रही.....बेटे को कहा भी था कि अगर छोटे  भाई के साथ अपना जन्मदिन मनाना हो तो चला जाए लेकिन जाने क्या सोच कर रुक गया......कभी कभी अपने ही बच्चों के मन की बात जान नहीं पाते हम...बेचैनी सी होने लगती है ....इसी सोच में डूबी अपने कमरे में आई...
लैपटॉप ऑन किया...जीमेल...फेसबुक....ब्लॉगज़.....खुले थे...
उन्हें मिनिमाइज़ करके स्क्रीन पर लगे दो गुलाबी फूलों को निहारने लगी...हमारे आँगन में खिले दो गुलाब के फूल.... उस घर में चारों तरफ फूल पौधे थे...खुला और बहुत बड़ा घर था... उस घर से मीठी यादें जुड़ी थीं तो कुछ बेहद कड़वी ....जिन्हें भूलना नामुमकिन है......कुछ पढ़ने लिखने का जी नहीं चाहा...उठी...रोज़ की दिनचर्या से फारिग हो कर योग करना शुरु किया... आज उसमें भी दिल नहीं लग रहा था...अपने मोबाइल पर भजन लगा कर आँखें बन्द कर लीं.....
दो भजन सुनकर फिर से स्क्रीन के सामने आ बैठी.....चमकती स्क्रीन के उस पार कितने ही लोग बैठे हैं लेकिन क्या कोई मेरे मन का हाल जान सकता है....मुँह चिढ़ाती स्क्रीन जैसे कह रही हो.... ‘मुझे क्या पता’
उठ कर फिर बेटे के कमरे में गई... प्यार से थपकाया... जन्मदिन की मुबारक देकर उसे उठने के लिए कह कर नाश्ता बनाने में किचन में आ गई.....चाय के साथ कड़क टोस्ट वरुण को अच्छा लगता है....हम दोनों ने किचन में ही लैपटॉप रख कर विद्युत से बातें करते हुए चाय  नाश्ता किया....मन कुछ हल्का हुआ....विद्युत की मस्ती कुछ अलग है....मम्मी पापा और चाचू के साथ बाहर खाना खाने जाना...जब यहाँ आओगे तो एक बार फिर  दोस्तों के साथ मस्ती करेंगे....
दोनों बेटों के साथ बातचीत करने से लगा जैसे कुछ ही दूरी पर सब एक साथ बैठे थे... अपने कमरे में आकर कुछ ब्लॉग़ पढ़े ..कुछ टिप्पणियाँ कीं.... फिर सोचा कि कुछ लिखा जाए....

वरुण ने मुझे देखा... कीबोर्ड पर उंगलियाँ रुक रुक चल रही हैं..मेरा दिल और दिमाग कहीं खोया है..... शायद अतीत की उन मीठी यादों में जहाँ से वापिस लौटने का जी न चाहे..... समझ गया वह.....पास आकर खड़ा हो गया.... हल्की मुस्कान चेहरे पर.... आँखें बोलती सी..........
मेरे बारे में क्या है लिखने को...... '25 साल का एक ........' मुझे देख कर आगे कुछ न कह पाया.... मैं वहीं जड़ हो गई....कहना चाहती थी....’क्या कहते हो.....क्यों कहते हो......’ कुछ कहने से पहले ही जैसे वह समझ गया..... “सच है मम्मी..... यही सच है ...... जानता हूँ समाज के अनुसार मुझे भी अपने पापा की तरह नौकरी करके परिवार बनाने की बात सोचनी चाहिए...एक पुराने ढर्रे सी ज़िन्दगी जीने की सीख को अपना लेना चाहिए.....पर मैंने अपने मन की खिड़्कियाँ बन्द कर ली हैं.....
बचपन था वो....जब 12 साल की उम्र में दर्द ने जकड़ा लिया था ...... स्कूल और कॉलेज उसी दौरान खत्म हुए....... मुझे कुछ याद नहीं..... शायद मैं याद रखना ही नहीं चाहता.... बस याद है दर्द से मुक्ति पाकर दो साल का मस्त जीवन ..... छोटे भाई के साथ आधी आधी रात तक की मस्ती....हर रोज़ की आवारागर्दी.... सबके साथ
कदम से कदम मिला कर चलने की खुशी... नए पंखों के साथ उड़ने का आनन्द सिर्फ मैं ही महसूस कर सकता हूँ .....हर रोज़ किसी नई राह पर जाने की ललक..... बस यही याद है मुझे......जैसे सारा जीवन जी लिया हो.....
सर्जरी के बाद से अब तक नहीं सोचा था..... सोचना ही नहीं चाहता था......लेकिन आज सोचता हूँ ..... खुशी के पल जितने मिले...उन्हें सहेज लिया....अब उनसे ताकत लेकर नए जीवन की शुरुआत करनी है....बस आपका आशीर्वाद चाहिए...
बेटा बोलता जा रहा था और मैं सुन रही थी....शायद हर इंसान की अपनी एक दुनिया होती है...जिसमें वह अपने तरीके से सोचता है,,,जीता है... दुखी होता है...खुश होता है....माँ हूँ फिर भी मानती हूँ कि शायद बेटे के मन का कोई कोना है जो मैं नहीं देख पाई...क्या पता....कई कोने हो अनदेखे....फिर भी दुआ है कि वह हर पल भरपूर जी ले....


Wednesday, May 11, 2011

उड़ान


 रेगिस्तान का सूर्यास्त 
















चंचल मन की चाह अधिक है

कोमल पंख उड़ान कठिन है

सीमा छूनी है दूर गगन की

उड़ती जाऊँ मदमस्त पवन सी

साँसों की डोरी से पंख कटे

पीड़ा से मेरा ह्रदय फटे

दूर गगन का क्षितिज न पाऊँ

आशा का कोई द्वार ना पाऊँ !
(मन के भाव नारी कविता ब्लॉग़ पर जन्म ले चुके थे,,,आज उन्हें अपने ब्लॉग़ पर उतार दिए...)

Sunday, May 8, 2011

लिखने को कुछ नहीं पर एहसास बेशुमार हैं.......

माँ .........

लिखने को कुछ नहीं पर एहसास बेशुमार हैं.......
याद आते हैं बचपन के दिन.....
माँ का प्यार.....मारती फिर दुलारती.....
रोते रोते गले लगाती.... बाँहों में भरती
लाख चाहने पर भी रोक न पाती.....
सब का गुस्सा मुझ पर उतारती...

लिखने को कुछ नहीं पर एहसास बेशुमार है...
याद आते हैं जवानी के दिन.....
गलत जाते कदमों को रोक लेती...
मचलती चाहतों को भाँप लेती..
अनकही कहानी सारी सुन लेती...
मुखरित होता मौन समझ लेती...

लिखने को कुछ नहीं पर एहसास बेशुमार है...
याद आते हैं अब दोस्ती के दिन...
पल में दोस्त बन नसीहत लेना...
पल में माँ बन कर नसीहत देना..
पल में रूठना , पल में हँस देना..
पल पल का हिसाब लेना देना....

स्पाइस गर्लज़ का 'ममा' गीत माँ के नाम ....


Thursday, May 5, 2011

अजन्मी बेटी का प्यारा सा खूबसूरत एहसास

कहीं न कहीं ऐसा कुछ घट जाता है जो मन को अशांत कर जाता है.......मन व्याकुल हो जाता है कि कोई उपाय हो जो सामने वाले का कष्ट दूर हो सके... लेकिन सभी को अपने अपने हिस्से का जीवन जीना है... चाहे फिर आसान हो या जीना दूभर हो जाए... सुधा की भी कुछ ऐसी ही कहानी है जिसे अपने लिए खुद फैंसला करना है....
जाने कैसे कैसे ख़्याल सुधा के मन में आ रहे थे...सुबह से ही उसका दिल धड़क रहा था....आज शाम रिपोर्ट आनी थी ... कहीं फिर से लड़की हुई तो....कहीं फिर से नन्हीं जान को विदा होना पड़ा तो.... नहीं इस बार नहीं...सुधा ने मन ही मन ठान लिया कि इस बार वह ऐसा कुछ नहीं होने देगी....
उसने पति धीरज को लाख समझाया था कि इस बार लड़का या लड़की जो भी होगा उसे बिना टैस्ट स्वीकार करेंगे......लेकिन तीसरी बार फिर माँ और बेटे में एक और ख़ून करने की साजिश हो रही थी...कितना रोई थी वह क्लिनिक जाने से पहले....पर सास ने चिल्ला चिल्ला कर सारा घर सिर पर उठा लिया था...’मुझे पोता ही चाहिए.... खानदान के लिए चिराग चाहिए बस’ पति चुप... बुत से हो गए माँ के सामने.. लाख मिन्नतें करने के बाद भी उनका दिल न पिघला... आखिर रोती सिसकती सुधा को क्लिनिक जाना ही पड़ा था....
डॉ नीना ने धीरज को एक कोने में ले जाकर खूब फटकारा था. ‘कैसे पति हो.. अपनी पत्नी की तबियत का तो ख्याल करो...तीसरी बार फिर से अगर टैस्ट करने पर पता चला कि लड़की ही है फिर क्या करोगे.... उसे भी खत्म करवा दोगे....’ धीरज की माँ ने सुन लिया और एकदम बोल उठी, ‘हाँ करवा देंगे....मुझे पोता ही चाहिए बस’
डॉ नीना कुछ न बोल पाईं.....चाहती तो पुलिस में रिपोर्ट कर देतीं लेकिन डोनेशन का बहुत बड़ा हिस्सा धीरज के पिता के नाम से क्लिनिक को आता था....न चाहते हुए भी डॉ को टैस्ट करना पड़ा...
सुधा अपने पति को देख कर मन ही मन सोच रही थी... जिसके मन में अपनी पत्नी के लिए थोड़ा सा भी प्रेम दिखाई नहीं दे... मैं इस आदमी के साथ कैसे रह पाती हूँ ...उसे खुद अपने आप पर हैरानी हो रही थी... अपने ही कमज़ोर वजूद से वह खुद से शर्मिन्दा हो रही थी....
 नहीं.....इस बार नहीं ...इस बार वह बिल्कुल कमज़ोर नहीं पड़ेगी.... इस बार बिल्कुल नहीं गिड़गिड़ाएगी...
फोन पर जब डॉ नीला ने बताया कि इस बार भी लड़की है तो पल भर के लिए उसका सिर घूम गया था...हाथ से रिसीवर छूट कर गिर गया....टीवी देखते देखते सास ने कनखियों से सुधा को देखा... फिर अपने बेटे की तरफ देखा... दोनो समझ गए थे कि डॉ नीला का ही फोन होगा...सास सुधा की ओर देखकर बेटे से कहती हैं... ‘लगता है कि फिर से मनहूस खबर आई है’
धीरज पूछते हैं... डॉ नीला ने रिपोर्ट के बारे में क्या बताया...चुप क्यों हो ....क्या हुआ....सुधा पीली पड़ गई थी..... धीमी आवाज़ में बस इतना ही कह पाई... “नहीं इस बार मैं क्लिनिक नहीं जाऊँगी...”
‘पता नहीं किस घड़ी मैं इस मनहूस को अपनी बहू बना कर लाई थी...एक पोते के लिए तरस गई...’ सास बोलती जा रही थी लेकिन सुधा के कानों में बस एक नन्हीं सी जान के सिसकने की आवाज़ आ रही थी... आँखें बन्द करके वहीं फोन के पास फर्श पर बैठ गई.....
एक बार फिर क्लिनिक चलने के लिए धीरज का आदेश...सास का चिल्लाना... सुधा पर किसी का कोई असर नहीं हो रहा था...कुछ सोच कर वह उठी....गालों पर बहते आँसुओं को पोंछा......उसने एक फैंसला ले लिया था....ज़िन्दगी को नए सिरे से शुरु करने का फैंसला... सुधा तैयार तो हुई थी...लेकिन क्लिनिक जाने के लिए नहीं..सदा के लिए उस घर को छोड़ने के लिए....
उसके हाथ में एक सूटकेस था..... धीरज को यकीन नहीं  हुआ...वह सपने में भी नहीं सोच सकता था कि सुधा ऐसा कोई कदम उठा पाएगी... वह उसे रोकना चाहता था लेकिन अपनी ही शर्तों पर...
आज सुधा कहाँ रुकने वाली थी....वह तेज़ कदमों के साथ घर की दहलीज पार कर गई.... अचानक मेनगेट पर पहुँच कर  रुकी... सूटकेस नीचे रख कर गले से मंगलसूत्र उतारा.......पति के हाथों में थमा कर फिर वापिस मुड़ी और बढ़ गई ज़िन्दगी की नई राह पर ....... राह नई थी लेकिन इरादे भी मजबूत थे... अब वह अकेली नहीं थी.. अजन्मी बेटी का प्यारा सा खूबसूरत एहसास उसके साथ था.....!