Tuesday, August 2, 2011

सूरज, साया और सैर

नियमित सैर के लिए किसी गंभीर बीमारी का होना ज़रूरी नहीं है...बस यूँ ही नियम से चलने की कोशिश है एक. आजकल सुबह सवेरे भी निकलते हैं सैर के लिए... सुबह सवेरे मतलब साढ़े सात आठ बजे......दोष हमारा नहीं...सूरज का है..(दूसरों पर दोष डालना आसान है सो कह रहे हैं) ... उसे ही जल्दी रहती है निकलने की... जाने क्यों कभी आलस नहीं करता.... निकलता भी है तो खूब गर्मजोशी से .... हम भी उसी गर्मजोशी से उसका स्वागत करते हुए सैर करते हैं लेकिन साया बेचारा....बस उसे देखा और कुछ लिखा दिया कविता जैसा..... 

सुबह सवेरे सूरज निकला
मैं और मेरा साया भी निकला
सूरज पीछे....साया आगे
हम सब मिल कर सैर को भागे
देखूँ साए को आगे चलता
पीछे मेरे सूरज है चलता
ज्यों ज्यों मेरी दिशा बदलती
त्यों त्यों साए की छाया चलती
आगे सूरज पीछे साया
पीछे सूरज आगे साया
आते जाते पेड़ों की छाया में
छिपता उनमें मेरा साया
आगे पीछे मेरे होता
सूरज की गर्मी से बचता
लुकाछिपी का खेल था न्यारा
साया मेरा मुझको प्यारा 


16 comments:

रेखा said...

सुन्दर अभिव्यक्ति

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

सुंदर!

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

खूब .... गहरी अभिव्यक्ति

रश्मि प्रभा... said...

meri aankhon ke aage yah aankhmichauli jivant ho uthi

sushma 'आहुति' said...

बहुत ही सुंदर....

vidhya said...

sundar

anu said...

bahut khub

Sanjay Kareer said...

कविता तो खूबसूरत है लेकिन ... साए की छाया ... ये कुछ समझ नहीं आया :)

rashmi ravija said...

सुन्दर सैर के साथ सुन्दर कविता...

मीनाक्षी said...

@संजय..'साए की छाया चलती' अतीत में ले गई जब तपते रेगिस्तान की धूप से बचने के लिए मेरे साए की छाया में बच्चे कभी कभी चलते हुए स्कूल से घर पैदल ही पहुँचते...

अनामिका की सदायें ...... said...

wah sair, saya, suraj aur chhaya kya baat hai. sunder srijan ho gaya ye to.

badhayi.

Ojaswi Kaushal said...

Hi I really liked your blog.
I own a website. Which is a global platform for all the artists, whether they are poets, writers, or painters etc.
We publish the best Content, under the writers name.
I really liked the quality of your content. and we would love to publish your content as well. All of your content would be published under your name, so that you can get all the credit for the content. For better understanding,
You can Check the Hindi Corner of our website and the content shared by different writers and poets.

http://www.catchmypost.com

and kindly reply on ojaswi_kaushal@catchmypost.com

आशा said...

एक अच्छी पोस्ट बधाई |
आशा

abhi said...

कविता तो बहुत ही स्वीट है :)

लेकिन मेरे साथ थोड़ी दिक्कत ये है की मैं सुबह वाक पे पांच-छः के बीच निकलता हूँ, छः से देरी हो जाए तो नहीं निकलता.. :P

Ehsaas said...

achha likha hai aapne...


http://teri-galatfahmi.blogspot.com/

दिगम्बर नासवा said...

सूरज और साये का खेल ... मज़ा आ गया इस लाजवाब रचना पढ़ के ... जीवन के इस खेल को पढ़ के ...