Wednesday, April 28, 2010

हम बुरा ही क्यों सोचते हैं.....!



ऑफिस के लिए विजय निकले ही थे कि इधर दुबई वाला मोबाइल बज उठा, सालिक का सन्देश था जिसमें टॉलगेट पार करने के लिए अब एक भी दहरम नहीं बचा था. वहाँ के आठ बजे का सन्देश मिला तो एक दम ख्याल आया कि शायद बेटे ने उसी वक्त टॉलगेट पार किया होगा... कल ही उसकी वार्षिक परीक्षा खत्म हुई है...उसने कहा तो था कि पेपर खत्म होते ही फोन करूँगा,  क्या पता दोस्तों के साथ निकला हो डाउन टाउन की तरफ़...बस फिर क्या था हम लगे उसे फोन मिलाने..... घर का फोन और मोबाइल बार-बार मिला रहे थे लेकिन कहीं कोई अता पता नहीं था..... कलेजा जैसे मुँह को आ गया .... 
वरुण को उठाया .... “इतनी सुबह क्यों परेशान हो रहीं हैं ...सो रहा होगा.” कह कर  सो गया.... कुम्भकरण की नींद...! अरे इतनी बार में फोन की आवाज़ से तो पड़ोसी तक जाग गए होंगे....अब क्या करें....बेटे के एक करीबी दोस्त को फोन किया तो उसका फोन भी स्विच ऑफ आ रहा था...दिल और जोर से धड़कने लगा...जैसे अभी के अभी बाहर निकल आएगा....मन में बुरे बुरे ख्याल आने लगे.... आजकल जवान लड़के मस्ती करते वक्त ज़रा नहीं सोचते कि पीछे घर में कोई काँटों की सेज़ पर बैठा इंतज़ार कर रहा होगा....गाड़ी को स्पीड से भगाना....ड्राइव करते हुए फोन सुनना... ऊँची आवाज़ में संगीत लगाकर हा हा करते हुए बस अपनी धुन में निकल जाना...यही तो होता है अक्सर... ऊपर से दुबई की बेलगाम ज़िन्दगी..... कोई पीकर सामने ही न आ गया हो..... पैदल चलने वाले का ही कसूर क्यों न हो... पकड़ा तो गाड़ी का ड्राइवर ही जाएगा.....जानती हूँ कि विद्युत ऐसा नहीं कर सकता लेकिन समय कब बुद्धि फेर दे..किसे पता है.  
इस दौरान घर के और उसके मोबाइल पर लगातार फोन करती जा रही थी... फिर से वरुण को जगाती हूँ..... “तुम सोए रहो...मेरी जान निकली जा रही है” कहते कहते गला रुँध गया... जैसे मन भर का पत्थर गले में अटक गया हो.....नींद में ही उसने कहा विद्युत के दूसरे दोस्त को फोन करिए.... उसे किया तो वह भी नींद में ही था... मेरी आवाज़ सुनते ही डर गया... ‘आँटी, डॉंट वरी,,, ही वॉज़ हेल्पिंग हिज़ क्लासमेट फॉर लास्ट एग्ज़ाम इन सिटी सेंटर टिल लेट नाइट’ सुनकर मन को कुछ राहत पहुँची.. उसे सॉरी कहकर फिर से विद्युत को फोन लगाया.... लेकिन नहीं लगना था सो नहीं लगा....
इस बीच वरुण की नींद पूरी तरह से खुल चुकी थी.....मेरा ध्यान बँटाने के लिए चाय बनाने को कहा और खुद फ्रेश होने चला गया.... चाय की मेज़ पर बैठते ही शुरु हो गया.... मम्मी,,,,बताओ तो ज़रा...हम बुरा ही क्यों सोचते हैं....! कोई बात हो...कोई रिश्ता हो... किसी भी तरह की कोई बात हो ... एक पल नहीं लगता और हम बुरा सोचने लगते हैं.... अच्छा क्यों नहीं सोचते...! बुरा सोचते हैं तभी बुरा हो भी जाता है... लेकिन उस वक्त उसकी एक भी बात समझ नहीं आ रही थी....
माँ का दिल जो ठहरा... हार कहाँ मानता.... आखिरकार घर के फोन पर बेटे की उनींदी आवाज़ सुनाई दी...जान में जान आई..... “म्म्म्म्ममाँ ... नींद से क्यों उठा दिया...” उसके यह कहते ही हम अपनी आवाज़ ऊँची करने ही वाले थे कि उधर से डरी डरी सी आवाज़ आई... ‘सॉरी मम्मी...कल रात दोस्त को हैल्प करते करते लेट हो गया और फोन करना भूल गया’ कुछ ही पल में सारा डर, दर्द और गुस्सा गायब हो गया...
आजकल के बच्चे वैसे ही चुस्त चालाक हैं... मुझ पर ही बात डाल दी कि आप को बताया तो था कि एग्ज़ाम खत्म होते ही मैं खूब सोऊँगा... आप शायद भूल गईं. और फिर बात बदल कर पूछने लगा कि खाने में क्या बनाया है....खाना खाया कि नहीं.... 2मई को जब मैं आऊँ तो मेरी पसन्द का सब खाना बना कर रखना..अगले दिन का नाश्ता मैं बनाऊँगा.. ! यह सब सुनकर सब नाराज़गी भूल गए और बस मुस्कुरा कर रह गए.... !

Tuesday, April 27, 2010

रेप फिश



मौसम बदलने की इस प्रक्रिया में ऐसे लगता है जैसे जलते तपते सूरज से बचने के लिए धरती रेत का आँचल ओढ़े इधर से उधर भाग रही हो... तेज़ धूप में झुलसते पेड़ पौधों को भी उसी आँचल से छुपा लेती है जैसे कोई माँ अपने बच्चे को अपनी गोद में ले लेती है...... उसी तरह हरेक पर अपना आँचल फैलाने की कोशिश में जलने तपने की सब पीड़ा भूल जाती है, तभी तो इसे धरती माँ कहते हैं....

शुक्रवार (जुमे) का दिन... यही एक छुट्टी का दिन होता है जब बाहर के काम निपटाए जाते हैं.
नाश्ते में ज़ातर और जैतून के तेल के साथ एक चौथाई खुब्ज़ लिया. वरुण के हाथ की बनी स्पैशल मसालेदार(काली मिर्च और अदरक पाउडर) चाय का आनन्द लिया. कुछ देर अपने देश की राजनीति-आर्थिक व्यवस्था पर बातचीत हुई. धर्म और पाखंडों पर भी बहस हुई ...इन विषयों पर जितनी बेबाक चर्चा अपने किचन की मेज़ पर हो सकती है और कहीं नहीं की जा सकती...
उसी दौरान निश्चित हुआ कि किचन का सामान खरीदने के लिए सबसे नज़दीक के ऑथेम मॉल में जाया जाए, जो हमारे लिए नया था. जब हम मॉल में दाख़िल हुए तो आखिरी सला (इशा) पढ़ी जा रही थी. उस वक्त सब दुकानें बन्द थी.. हर सला पर अक्सर आदमी नमाज़ पढने निकल जाते हैं और औरते वहीं बैठ कर नमाज़ खत्म होने का इंतज़ार करती हैं, कुछ औरतें भी दुआ पढ़ती नज़र आ जाती हैं. ऐसा दिन में चार बार होता है.. खरीददारी का समय ऐसा तय किया जाता है कि दो नमाज़ों के बीच में ज़ब ज़्यादा समय मिलता है या आखिरी सला के बाद ही बाहर निकला जाता है...


इस दौरान हमने खूबसूरत मॉल का एक चक्कर लगाने की सोची... जिसमें एक तरफ ‘बिग बाज़ार’ की तरह बहुत बड़ा स्टोर दिया और दूसरी तरफ़ होम सेंटर...दूसरी मज़िल पर कुछ खास दुकानें जिसमें कपड़े, जूते, पर्स और मेकअप का सामान था...तीसरी मंज़िल पर ‘फूड कोर्ट’ और बच्चों के खेलने बहुत बड़ा ‘फन एरिया’. पैसा खर्च न हो इसलिए शायद आदमी लोगों को शॉपिंग से कोसों दूर भागते हैं लेकिन अपने बच्चों के साथ फूड कोर्ट या फन लैंड में दिख जाते हैं. औरतें ब्यूटी पार्लर में या शॉपिंग में मशगूल....
हर बार रियाद आने पर कुछ न कुछ बदलाव दिखता है... धीरे धीरे ही सही लेकिन बदलाव होता तो है...इस धीमे बदलाव से भी लोगों के मन में आशा की किरण जागती है और जीना आसान हो जाता है.
फूड कोर्ट में औरतों के लिए भी अलग काउंटर्ज़ थे जहाँ कुछ औरतों को खाना खरीदते हुए देखा...


एक और जो बात हमें पसन्द आई कि पर्दे से ढके केबिन के अलावा खुले में भी परिवारों के बैठने का प्रबन्ध था... अपनी इच्छा से पर्दे में या बाहर खुले में बैठने की सुविधा देखकर हमने बाहर ही बैठने का निश्चय किया हालाँकि उस जगह को भी चारों तरफ से नकली पौधों से ढका गया था...


पहली बार जैसे खुले मे साँस लेते हुए खाने का आनन्द आएगा, यह सोचकर हम उस काउंटर पर पहुँचे जहाँ ‘सी फूड’ था. वहाँ के बोर्ड पर लज़ीज़ खाने की तस्वीरों को देख कर भूख और भी बढ़ रही थी... ‘रेप फिश’ का नाम पढ़ कर हम चौंक गए.. सोचा काउंटर पर जाकर इस बारे में पूछे पर उन महोदय को तो अंग्रेज़ी का ए,बी,सी भी नहीं आता था और हम इतने सालों यहाँ रह कर भी अरबी में कच्चे ही रहे....(हिन्दी में लेख होने के कारण अरेबिक की जगह अरबी लिखना ही सही लगा)


रेप फिश पर बहस होने लगी कि शायद लोकल फिश मोस्टल है जिसे बनाने में रेपसीड के तेल का प्रयोग किया होगा... रेपसीड सरसों के ही परिवार का सदस्य है. कहीं कहीं तो इसके फल फूल और डालियाँ भी खाई जाती हैं..वरुण बोला कि शायद स्पैनिश तरीके से बनाई गई फिश हो जिसे ‘रेप अल लिमून’ या ‘फिश इन लेमन सॉस’ कहा जाता है जो मैडिटेरियन सी में पाई जाती है।


दस मिनट पूरे हो चुके थे सो बेटा खाने की ट्रे लेने पहुँचा....उसने दुबारा काउंटर पर खड़े लड़के से पूछने की कोशिश की लेकिन वह कुछ न बता पाया...खैर हमने मछली का आनन्द लिया जिसमें कुछ अलग ही स्वाद था शायद रेपसीड तेल या नीम्बू या सिरके की खटास के कारण.....मुँह के स्वाद को बदलने के लिए वरुण ने पैशन फ्रूट आइसक्रीम खाई. चखने पर बचपन याद आ गया जब गर्मी के दिनों मे हम खट्टे मीठे शरबत फ्रीज़र मे जमने के लिए रख देते थे....दोपहर के खाने के बाद खूब शौक से खाते और गर्मी भगाते.....खाना पीने का आनन्द लेकर घर के खाने-पीने का सामान लेने निकल पड़े...!
(अपने मोबाइल से कुछ तस्वीरें लेने का मोह न रोक सके हालाँकि तस्वीरे लेने की मनाही है)












Saturday, April 24, 2010

रेतीली हवाओं में संगीतमय फिल्म

गुरुवार की शाम घर से बाहर जाने का जोश ठंडा पड़ गया ..... रेतीला तूफ़ान (सैण्ड स्ट्रॉम) ऐसा शुरु हुआ कि घर के अन्दर भी साँस लेना मुश्किल हो गया... जान गए कि अभी फिलहाल कुछ देर के लिए तो बाहर निकलना नामुकिन है....सो चाय नाश्ता करते हुए एक फिल्म देखना निश्चित किया....
‘अगस्त रश’ ....सपनीली फिल्म जिसमें प्रेम और ममता का अनोखा रूप देखने को मिला.....संगीत की सुनहरी दुनिया में मिले दो अजनबी अनायास एक दूसरे की ओर खिंचे चले गए..दोनों ही संगीत के दीवाने....पहली नज़र का प्यार शायद इसी को ही कहते होंगे.....ऐसा हुआ जो नहीं होना चाहिए था... लड़की के पिता ने अपने अनुभव का सहारा लेकर दोनो को अलग करने की कोशिश की... सफ़ल भी हो गए......प्रेमी जोड़े की संतान को भी उनसे दूर कर दिया...ग्यारह साल के बाद बीमार पिता ने अपनी बेटी को अस्पताल बुला कर पुराने रहस्य को खोल दिया कि उसकी संतान ज़िन्दा है लेकिन किसी अनाथाश्रम है.....शायद मरता हुआ इंसान किसी भी अपराध भावना को लेकर इस दुनिया से नहीं जाना चाहता.... उधर दोनों प्रेमी भटकती आत्माओं की तरह दोनों एक दूसरे की तलाश में जी रहे थे.... उधर नन्हा सा बच्चा भी बड़ा हो रहा था अपने माता पिता की तलाश में.... संगीत प्रेम उसे अपने माता पिता से विरासत में मिला था.. प्रकृति के रोम रोम में संगीत की स्वर लहरी उस पर अनोखा जादू कर देती... उसे विश्वास था कि कहीं न कहीं उसके माता पिता भी उसे चाहते हैं...वे भी उसकी तलाश में होंगे.... संगीत के द्वारा वह अपने माता-पिता को खोजना चाहता था........
फिल्म के अगले हिस्से में शहर में पहुँचा लड़का खो गया और पहुँच गया एक ऐसी जगह जहाँ अनाथ बच्चे एक साथ रहते संगीत के ज़रिए पैसा इक्ट्ठा करके अपने लीडर को देते ... वह हिस्सा मन को बाँध न पाया लेकिन इसी बीच नाटकीय अन्दाज़ में पिता पुत्र की कुछ पल की मुलाकात भी होती है....
वहाँ से भाग कर चर्च में एक नन्हीं सी बच्ची से मुलाकात फिल्म को रोचक बना देती है.... उस बच्ची के कमरे में बैठकर संगीत बनाने का अनोखा तरीका हैरान करता है कि इतना छोटा सा बच्चा इतनी गहराई से कैसे अनुभव कर सकता है.... बच्चे का गिटार बजाने का अनोखा तरीका...गिटार बजाते हुए मंत्रमुग्ध करती मासूम मुस्कान ... मासूम मुस्कान, अलौकिक प्रेम की आभा और संगीतमय दिशाएँ.... मन को मोहित कर जाती हैं....
सुबह के सूरज की इठलाती किरणों का इधर उधर दौड़ना.. हवा का गुनगुनाना... .बास्केटबॉल खेलते बच्चों के जूतों की आवाज़ में भी उसे संगीत सुनाई देता...दूर किसी पार्क में झूला झूलते बच्चों की किलकारियाँ ... उसे मंत्रमुग्ध कर देतीं... चर्च की उस बच्ची के कारण उसके हुनर को निखारा वहाँ के बहुत बड़े संगीत स्कूल ने...
एक बहुत बड़े पार्क में संगीत के कार्यक्रम में माँ और बेटा दोनों हिस्सा लेते हैं....माँ को विश्वास था कि इसी शहर में कहीँ उसका खोया हुआ बच्चा है जिस तक उसके मन की आवाज़ पहुँच सकेगी... और बेटा हज़ारों लोगों के बीच में संगीत के माध्यम से अपने माता पिता तक अपने दिल की आवाज़ पहुँचाना चाहता था.
अंत में संगीत ने ही उन तीनों को एक दूसरे से मिला भी दिया.... फिल्म में संवाद बहुत कम हैं ... चेहरे पर आते जाते हाव भाव बहुत कुछ कह जाते हैं.... फिल्म देखने के बाद महसूस हुआ कि प्रेम संगीतमय है और संगीत प्रेमी ही प्रेम की परिभाषा को आसानी से समझ सकता है....
फिल्म के बारे में हम सही कह पाए हैं या नहीं यह तो आप फिल्म देख कर ही बता सकते हैं... !

Tuesday, April 20, 2010

ख़ानाबदोश ज़िन्दगी





नियमित न लिख पाने का एक बड़ा कारण है ख़ानाबदोश ज़िन्दगी... एक सूटकेस लिए कभी यहाँ तो कभी वहाँ... ब्लॉगजगत की पुरानी यादों ने झझकोरा तो एक पोस्ट के रूप में अपने ब्लॉग के बगीचे से एक नई कोंपल फूटी....14 अप्रेल को...सोचा तो यही था कि अब से नियमित लिखना शुरु करेंगे लेकिन फिर से सफ़र की तैयारी शुरु हो गई.....


दो दिन पहले ही दुबई से रियाद आए हैं... अभी यहाँ नेट , टेलिफोन और टीवी कनैक्शन की समस्या है...शहर से दूर एक नई जगह पर घर लेने के कारण नई समस्याएँ भी हैं.... खैर जैसे तैसे 5 जीबी कनैक्शन से ही खुश हैं...


यहाँ बाहर निकलने का सवाल ही नहीं है सो संगीत॥फिल्में और किताबें पढ़ने के बाद फोन पर पुराने दोस्तों से कुछ बातचीत होती है.... सुबह सवेरे धूप की नन्हीं नन्ही किरणें खिड़की के एक कोने से अन्दर आ ही जाती हैं...कुछ देर इठलाती इतराती इधर उधर भागती और फिर निकल जाती किसी ओर दिशा की ओर...खिड़की दरवाज़े बन्द होने के बावज़ूद पता नहीं कहाँ से धूल अन्दर आ धमकती है...दीवारों की मज़बूत बाँहों के घेरे में अपने आप को महफ़ूज़ पाकर मुँह चिढ़ाती सारे घर में उधम मचाती है... हम उसे भगाने मे लगे रहते हैं....


फिलहाल सप्ताह के अंत होने का इंतज़ार है ..... वीरवार और शुक्रवार को नीले आसमान के नीचे निकलने का मौका मिलेगा... शायद कुछ दोस्तों से भी मिलना हो...आभासी दुनियाअ तो लुभाती ही है लेकिन वास्तविक दुनिया का मोह भी नहीं छूटता....!


Wednesday, April 14, 2010

भूली बिसरी यादों की खुशबू....





भूली बिसरी यादों की खुशबू फिर से मन को महकाने लगी.... भूली बिसरी यादें ! नहीं नहीं.......... यादें तो बस यादें होती हैं..शायद यादें कभी भुलाई ही नही जा सकती........खूबसूरत यादें...ज़िन्दगी की दिशाओं को महकाती यादें.... पिछले दिनों जाना कि जीवन प्याला जो साँसों के अमृत रस से भरा है आधा छलक गया .... छलका उस पथ पर जिस पर अपने ही चल रहे थे....उन्ही अपनों ने आधे भरे प्याले का आनन्द उठाने की दुआएँ दीं.....
उन्ही अपनों का आभार कैसे और किन शब्दों में व्यक्त करें... गर वे अपने हैं तो फिर वे मन के भाव अपने आप ही समझ जाएँगे..... !
एक अर्से के बाद लौटे हैं ब्लॉग जगत में.... यहाँ की यादों को फिर से तरो ताज़ा कर लें फिर अपने बारे में कुछ कहेंगे....