Sunday, May 2, 2010

एक घर की कहानी ऐसी भी











सुमन दमकते सूरज को देखती तो कभी कार के खराब ऐ.सी को कोसती....आज कई दिनों बाद निकले सूरज देवता जैसे अपनी मौजूदगी का एहसास कराने की ठान कर उदय हुए थे...पिछले हफ्ते हल्की फुल्की फुहार से मिली शांति आज न जाने कहाँ काफ़ूर हो गई थी.... अम्माजी के लिए आँखों की दवा और माँ का चश्मा लेने छोटे बाज़ार जाना था जहाँ पार्किंग की हमेशा से ही मुश्किल रही है.... फिर भी उसने हार न मानी और कार दूर खड़ी करके चिलचिलाती धूप में सिर को दुपट्टे से ढकती बाज़ार की ओर चल दी. सुबह स्कूल जाते वक्त अचानक दूसरे कमरे से अम्माजी की धीमी लेकिन मिश्री सी मीठी आवाज़ सुनाई दी थी.....’सुमन्न्न्न्न,,,, मेरी मुन्नो.... अखाँ दी दवाई खतम हो गई है...’ ऊँचा सुनती हैं लेकिन फिर भी अपनी आवाज़ को न जाने कैसे नीचा रख पाती हैं अम्माजी ...चार दिन से दवाई खत्म ठीक और सुमन भूल जाती...आज उसने ठान ही लिया था कि जैसे भी होगा वह आज दवाई और माँ का चश्मा लाना नहीं भूलेगी....

अम्माजी...माँ की माँ हैं....मेरी प्यारी नानी जिसके पोपले से मुहँ पर हमेशा एक प्यारी सी मुस्कान रहती पर न जाने क्यों माँ के चेहरे पर वही मुस्कान कभी न देख पाती, शायद छोटी उम्र से ही पति का साथ छूटने पर समाज में अपने आप को मज़बूत दिखाने के लिए मुस्कान को चेहरे पर आने ही न दिया हो...पढ़ी लिखी न होने पर भी माँ ज़मीनों का हिसाब किताब खूब कर लेती थीं... पापाजी तो कब का छोड़ कर जा चुके थे...माँ ने ही पुश्तैनी ज़मीन्दारी की आमदनी से तीनों भाई बहन को पाल पोसकर बड़ा किया... पढ़ाया लिखाया... और अपने पैरों पर खड़ा होने की हिम्मत दी...
माँ अपनी अम्माजी की लाड़ली थीं तो नानाजी अपने दो बेटों पर घमंड करते, उनका गुणगान करते न थकते.... नानाजी ने कभी पीछे मुड़कर न देखा था...... अम्माजी की सारी खुशियाँ, सारे शौक दोनो बेटों के साथ विदेश जाकर बस गए... नानाजी बड़े मामाजी के साथ रहने अमेरिका चले गए और छोटे मामाजी ने शुरु शुरु में नानी यानि अम्माजी को आने की खूब मिन्नतें कीं लेकिन न जाने क्यों अम्माजी अपनी इकलौती बेटी को छोड़ कर न जा पाईं या शायद अपनी मिट्टी को छोड़ पाने की हिम्मत न जुटा पाईं ...यही माँ के साथ हुआ ... वीरजी कनाडा गए ....दीदी के लिए एक अच्छा लड़का मिल गया सो उसे भी वहीं बुला कर ब्याह कर दिया उसका.... पीछे रह गई सुमन ......... अम्माजी और माँ के साथ ....
दीदी जब कनाडा गईं थी उस समय सुमन ने बारहवीं पास की थी और कॉलेज में दाखिला लेने के लिए सोच रही थी....दीदी के जाते ही घर खाली खाली सा लगने लगा....आगे की पढ़ाई के लिए घर से दूर जाना मुमकिन नहीं था इसलिए पास के कॉलेज में बी.ए. पास कोर्स के लिए फॉर्म भर दिया... खाली पीरियड में घर आकर दोपहर का खाना तैयार करने में माँ की मदद करना सुमन को अच्छा लगता. कभी कभी कपड़े निचोड़ कर तार पर भी डाल जाती.... अम्माजी सुमन को देख देख खुशी से फूली न समाती...’मेरी मुन्नो... मेरी शहज़ादी... देखना शीला...राज करेगी.... ‘ माँ को कहतीं और बलाएँ लेने लगती...सुमन मुस्कुरा कर फिर से कॉलेज भाग जाती......
देखते ही देखते कॉलेज खत्म हुआ.... अपने ही स्कूल में पढ़ाने का सपना कब से सुमन की आँखों में पल रहा था....लेकिन बी.एड करने के लिए कहाँ जाए...पढ़ाने के लिए तो टीचर ट्रेनिंग भी तो चाहिए....माँ तो दूर पढ़ने के लिए भेज भी देतीं लेकिन अम्माजी की जान तो जैसे सुमन में ही थी.... उन दिनों पत्राचार के माध्यम से रोहतक से बी.एड हुआ करती थी सो वहीं से बी.एड कर ली. ....अपने ही स्कूल में नौकरी की अर्ज़ी देते ही वहाँ गणित की टीचर भी लग गई....
अम्माजी और माँ के साथ सुमन के दिन मज़े से कट रहे थे....कुछ अपने जो सात समुन्दर पार थे, कभी उनकी याद आती लेकिन जल्दी ही उदासी दूर भी हो जाती ...यह सोचने की फुर्सत ही नहीं थी कि वे लोग इतनी दूर क्यों जा बसे..विदेश में सभी खुशहाल हैं फिर क्यों उदास होना,,यह सोच कर सुमन नानी और माँ को पल भर में बोझिल माहौल से बाहर ले आती...लेकिन कभी कभी उन दो जोड़ी बूढ़ी आँखों में एक वीराना सा इंतज़ार दिखता..वह भी कुछ पल के लिए फिर सुमन की खिलखिलाती हँसी में कहीं गुम हो जाता....
माँ की सहेली शोभा  जब भी आती सुमन को अपने घर की बहू बनाने का सपना लेकर जाती और फिर टूटे सपने के साथ फिर लौट कर आती....एक एक करके उनके दोनों बेटे विदेश जा बसे थे और वहीं अपने घर भी बसा लिए थे..... लेकिन शोभा  के जेठ जेठानी का इकलौता बेटा उन्हीं के साथ ही रहता था....कुरुक्षेत्र के एक कॉलेज में प्रोफेसर था... अपने खुद के पैसे से मकान खड़ा किया था उसने...कार और मोटर साइकल थी... दहेज के सख्त खिलाफ....लेकिन लड़की को खाली हाथ तो ले जाना नहीं था...दहेज के रूप में अम्माजी और माँ को साथ ले जाने की ज़िद...
पहली बार माँ की आँखों को डबडबाते देखा था.... उन्होंने अशोक का माथा चूम लिया था....ढेरों आशीष देकर गले से लगा लिया था....तब से लेकर आज तक माँ और अम्माजी ने कभी अशोक को दामाद नहीं माना...और अशोक भी तो सोने से खरे स्वभाव जैसे हैं...
‘बहनजी, चश्मा तैयार हो गया है... इतना इंतज़ार करवाने के लिए माफ़ी चाहता हूँ’ गुप्ता ओप्टिकल के एक कर्मचारी के कहने पर सुमन के विचारों की तन्द्रा टूटी.... ओह... स्कूल से निकले पूरे दो घंटे हो गए थे...सुधा बेटी घर पहुँच चुकी होगी....और मम्मी को न देख कर सारा घर आसमान पर उठा लेगी....सोचते सोचते सुमन के पैरों में तेज़ी आ गई थी....कार के शीशे खोल कर अन्दर बैठी सुमन ने सीधा घर जाने की सोची...... एक बार ख्याल आया कि अशोक को भी कॉलेज से ले लूँ लेकिन एक और घंटे की देरी हो जाएगी....
आजकल सुधा अपने कॉलेज मोटर साइकिल पर जाती है... अशोक ने खुद ही बेटी को मोटर साइकिल चलाना सिखाया है......कभी बेटी या बेटे में फ़र्क नहीं किया.... पीयूष छोटा भाई है सुधा का....कभी कभी बड़ा भाई बनने की कोशिश करता है लेकिन सुधा उसे फिर से सीधा कर लेती है.....पीयूष भी कम नहीं है...चुप हो जाता है...जानता है कुछ दिनों के बाद मोटर साइकिल उसकी ही होने वाली है....
चार बजने वाले थे...सुमन घर पहुँची तो सुधा को माँ के साथ रसोई में देखा...आँखों ही आँखों में माँ को शुक्रिया अदा करके सुमन अम्माजी को आँखों की दवा देकर फ्रेश होने चली गई....पाँच बजे अशोक और पीयूष घर आ जाएँगे...उन दोनो के आने से पहले ही सुमन फ्रेश होकर रसोईघर में माँ का हाथ बँटाने आ गई....
कॉलेज से आकर अशोक अम्माजी और माँ के साथ बैठकर जब तक चाय की चुस्कियों के साथ कॉलेज की गपशप न कर लें...उन्हें मज़ा ही नहीं आता...इसी बीच कब सुधा और पीयूष को साथ बैठने की आदत हो गई ...पता ही नहीं चला.... दोनो भाई बहन बड़ी नानी और छोटी नानी के दीवाने हैं..
सुमन को यही शाम का वक्त सबसे अच्छा लगता है जब सब मिल कर चाय के खनकते प्यालों के साथ खिलखिलाते भी हैं, यही पल तो सारे दिन की थकान को दूर भी कर देते हैं......
सुमन सोचने पर मजबूर हो जाती है कि आजकल जितना भी देखने सुनने को मिलता है.... कहाँ कुछ कमी रह जाती है कि घर के बड़े बुज़ुर्ग अपने ही बच्चों द्वारा उपेक्षित होने लगते हैं...
(सुमन की कहानी का सच वास्तविक जीवन से जुड़ा है..ऐसे बहुत से परिवार होंगे जहाँ जो है , जैसा है...उसे वैसे का वैसा ही स्वीकार किया जाता होगा....)
----

15 comments:

Udan Tashtari said...

ऐसे परिवार अब कहाँ देखने में आते हैं..होंगे तो जरुर.


अच्छा लगा यह सत्य कथा पढ़कर.

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

जरूर हैं ऐसे भी परिवार।

Arvind Mishra said...

अच्छी लगी यह कहानी पढ़ते हुए -ऐसे परिवार अभी होगें !

अजित वडनेरकर said...

रेशमी एहसास सी कहानी। यकीनन हैं ऐसे परिवार। रश्क के काबिल।

kshama said...

Sach, ek bade sukun bhare mahaul me aapki kahani le gayi..

Shekhar Kumawat said...

BAHUT KHUB

BADHAI AAP KO IS KE LIYE

संजय भास्कर said...

बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

संजय भास्कर said...

... बेहद प्रभावशाली है ।

MUFLIS said...

aise
prabhaavshali lekhan ke liye
abhivaadan .

अजय कुमार झा said...

हमेशा की तरह दिल को छू लेने वाली पोस्ट रही दीदी ।

Amit Sharma said...

बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

zeal said...

bahut achha likhti hain aap...

हरकीरत ' हीर' said...

ऐसे साफ सुथरे नेक दिल परिवार भी होते हैं ....सपना सा लगता है .....आपने लिखा कहानी सत्य घटनाओं पर आधारित है ...संभवत आपके परिवार की ही हो ........सुधा और पियूष का नानी और पडनानी से लगाव ...एक सुकून देता है ....

कथा को बड़े करीने से परोसा है आपने ......!!

सुमन'मीत' said...

सच कहें तो बजुर्गों के बिना घर घर नहीं लगता

अनूप शुक्ल said...

बहुत सुन्दर! अभी सुमन से बताकर आया कि मीनाक्षीजी ने जो कहानी लिखी उसमें तुम्हारा नाम है। मजे की बात कि जिस दिन लिखी गयी उस दिन मेरे बड़े बेटे का जन्मदिन होता है। घरेलू कहानी। सुखी कहानी।