Tuesday, May 20, 2008

चिट्ठी न्यारी मेरे नाम ....




अन्धकार के गहरे सागर में
अकेलेपन की शांत लहरें
जिनमें हलचल सी हुई . .....

शायद सपनों की दुनिया
शायद कल्पना का लोक
ताना बाना बुना गया.....


प्यारी मीनू ,
आशा है सब कुशल मंगल होगा. यहाँ तो मैं नितांत अकेला तुम्हारे इंतज़ार में आँखें बिछाए खड़ा हूँ... एक एक पल भारी पड़ रहा है. बता नहीं सकता कि मेरे दिल पर क्या गुज़र रही है. पहली बार जब तुमने मुझे देखा था तो अपनी प्यारी मुस्कान के साथ दोनो बाँहें फैला कर मेरा स्वागत किया था. मुझे एक बार भी नहीं लगा था कि हम पहली बार मिल रहे हैं. लगा था जैसे हम सदियों से एक दूसरे को जानते हैं.
मीनू , मुझे देखकर तुम्हारे चेहरे पर चमक आ जाती थी. तुम्हारी मधुर आवाज़ में गाया प्रेम गीत आज भी मेरे कानों में गूँज रहा है -----

मेरा चिट्ठा मेरा चित्तचोर
चुराके चित्त को बना चित्तेरा

जादू से अपने मुझे लुभाए
बार-बार मुझे पास बुलाए

पहरों बैठके उसे निहारूँ
कलम से अपनी उसे रिझाऊँ !

अतीत के चित्र सजीव होकर आँखों के सामने हैं ... जैसे कल की ही बात हो.... अपनी सुन्दर सुन्दर रचनाओं से मेरे व्यक्तित्त्व को निखारतीं. मुझे तुष्ट करने के लिए बार बार देखतीं कि मुझे टिप्पणियों की खुराक मिल रही है या नहीं......
अब क्या हो गया है तुम्हें ?? क्यों तुम महसूस नहीं कर पातीं कि धीरे धीरे मेरी साँसें रुक रही हैं...मेरा दम घुट रहा है. ऐसे लग रहा है जैसे कभी भी मेरा वजूद मिट जाएगा...... मेरी प्यारी मीनू , मुझे जीवन का दान दे दो ...
मुझे पहले जैसा प्यार दे दो .. . ...
कभी कभी लगता है कि तुम मुझसे ऊब चुकी हो,,, शायद तुम्हें दूसरे चिट्ठे ज़्यादा अच्छे लगने लगे हैं ... जिनका मनमोहक रूप तुम्हें मुझसे दूर कर रहा है... फिर दूसरे ही पल एक विश्वास जागने लगता है .. आभासी दुनिया में कितने भी चिट्ठे तुम्हारे जीवन में आएँ, उनका रूप तुम्हारा मन मोह लें ... लेकिन तुम मुझे नहीं भुला सकतीं.... .
आशा की किरण जगमगाने लगती है .... मन पुकार उठता है......

मेरे आगोश में फिर से आओ
प्रेम गीत तुम फिर से गाओ .

नई रचना के तोहफे लाओ
सुख की नई अनुभूति पाओ.

कभी तो तुम्हारी नज़र फिर से मुझ पर पड़ेगी... फिर से पुराने दिन लौटेगे...

सदा तुम्हारे इंतज़ार में.....

सिर्फ तुम्हारा चिट्ठा चित्तेरा
'प्रेम ही सत्य है'

Monday, May 12, 2008

हाइकु (त्रिपदम)









कैसे लिखूँ मैं
बुद्धि जड़ हो गई
मन बोझिल

सोचा था मैंने
सफ़रनामा न्यारा
दर्ज करूँगी

लेखनी रुकी
थम गए हैं शब्द
गला रुँधा है


कविता हो न
लेख लिख न पाऊँ
बात बने न

अर्धांग रूठा
निपट अकेली माँ
दर्द गहरा

साथी जो छूटा
मन-पंछी व्याकुल
रोता ही जाए

समझूँ कैसे
माँ के अंतर्मन को
छटपटाऊँ

सरल नहीं
लिख पाना कुछ भी
हाल बेहाल

देखा जो मैंने
मैना जब चहकी
मन बहला

माँ ने भी देखा
ठंडी सी आह भरी
नैनों में नीर

पंछी निर्मोही
कर्म करे अपना
मोह न जाने

उड़ जाते हैं
चींचीं करते बच्चे
पाते ही पंख

यादों के साए
खुश्बू बनके छाएँ
करती इच्छा

Saturday, May 10, 2008

दिल्ली की गर्मी में माँ के आँचल की शीतल छाया



दिल्ली से कल ही लौटे. टैक्सी घर के सामने रुकी तो छोटा बेटा विद्युत बाहर ही खड़ा था . सामान लेकर अन्दर पहुँचे तो घर साफ-सुथरा पाकर मन प्रसन्न हो गया. एकाध नुक्सान को नज़र अन्दाज़ करना ज़रूरी होता है सो हमने उस ओर ध्यान ही नहीं दिया. बेटे के हाथ की चाय और दिल्ली की मिठाई ने सारी थकान दूर कर दी फिर भी कुछ देर आराम करने बिस्तर पर गए तो चावल पकने की खुशबू से नींद खुली. विद्युत ने चावल बना लिए थे जिसे पिछ्ले दिन की करी मिला कर बिरयानी बना कर परोस दिया. शाम की चाय वरुण ने बनाई. चाय पीकर कितना आनन्द आया बता नही सकते.
फिर शुरु हुआ ब्लॉग जगत का सफ़र जिसमें हम बहुत पीछे छूट गए थे. लिखने की राह पर चलने का उतना मज़ा नहीं जितना पढने का आनन्द आता है. फिर भी लिखने की लहर मन में आते ही लिख भी डालते हैं.....

अभी अभी कुछ त्रिपदम मन की लहरों से जन्मे........

गर्म हवा में
माँ का स्नेहिल साया
शीतल छाया

भूली मातृत्त्व
माँ की ममता पाई
बस बेटी थी

आज मैं लौटी
फिर से माँ बनके
प्यार लुटाती

ब्लॉग जगत
लगे परिवार सा
पाया फिर से

पढ़ना भाए
लिखना भूली जैसे
अनोखी माया

दिल्ली सफ़र
दर्ज करूँगी फिर
मनमर्जी से

मनमौजी मैं
लिखूँ पढूँ इच्छा से
मदमस्ती में