Tuesday, January 29, 2008

मौन अभिव्यक्ति !

मौन हुई मैं
स्नेह करे निशब्द
भाव गहरे

शब्द न पाऊँ
मौन की भाषा पढ़ो
आभारी हूँ मैं

10 comments:

mehek said...

bahut khub meenakshiji,sach mein gehre bhav nishabdh bana dete hai.jaise hum apke haiku padhne ke baad ho jate hai.

Sanjay said...

मौन की भाषा को पढ़ा और समझा भी.

anitakumar said...

:)

ajay kumar jha said...

meenakshi jee,
saadar suswaagatam. bas itna hee ki pichhle dino apnee library kee khamoshi bahut akhree. waapsi kaa shukriyaa. mujhe aapkaa kahnaa aap ke maun se jyaadaa bhaataa hai.

राकेश खंडेलवाल said...

शब्दों से परे
जहाँ भाव और हैं
वे सपर्पित

singh said...

स्नेह करे...
बहुत कुछ कह दिया आपने ,अपने शुभचिन्तको के लिये.
विक्रम

अजित वडनेरकर said...

हमने आपके मौन को पढ़ा और आपने आभार जताया।
दुनिया में ये मौन का शिष्टाचार ही क्यों न प्रचलित हो...

रवीन्द्र प्रभात said...

श्रेष्ठ अभिव्यक्ति का सुन्दरतम सोपान मौन ही है , इसमें कोई संदेह नही !

महावीर said...

ऐसे सुंदर हाइकू पढ़ कर बहुत अच्छा लगा। ब्लागों पर तो ढूंढने पर भी कठिन से दिखाई देते हैं।
बधाई स्वीकारें।

arun prakash said...

बहुत मार्मिक व संवेदनापूर्ण अभिव्यक्ति धन्यवाद इस प्रस्तुति के लिए