Monday, May 30, 2011

चिट्ठाकारों को शत-शत प्रणाम (बदलाव के साथ)

यह उन दिनों की पोस्ट है जब हमने अभी नया नया ब्लॉग ही बनाया था... 28 सितम्बर 2007 की लिखी इस पोस्ट में कई ब्लॉग मित्रों का ज़िक्र है लेकिन लिंक करने की तकनीक नहीं जानती थी...शुरुआती दौर की कुछ पोस्ट पढ़ते पढ़ते ख्याल आया कि क्यों न लिंक लगा कर इस पोस्ट को फिर से पब्लिश कर दिया जाए... लेकिन एक ब्लॉग  मेरे लिए पहेली बन गया..समझ नहीं आया कि किसका ब्लॉग होगा इसलिए लिंक करने में असमर्थ हूँ. संजीवजी का आवाज़.....अगर आपमें से कोई पहचान ले तो बहुत अच्छा हो.....

अनिल रघुराज जी का लेख "हिचकते क्यों हैं, लिखते रहिए' पढ़कर आशा की किरण जागी कि "ब्लॉगिंग मिसफिट लोगों का जमावड़ा" नहीं है। हाँ कुछ सीमा तक बात सत्य हो सकती है क्यों कि जो पहले से ही इस क्षेत्र में अनुभव प्राप्त किए हुए हैं, वे ज़्यादा जानकार हैं । अपने बारे में यह कह सकती हूँ कि आसपास मेरी बात सुनने वाला कोई नहीं, पति को शिकार बनाती , लेकिन उन पर भी प्रभू की बड़ी कृपा है। बच्चों की पढ़ाई के कारण या कहिए उनका सौभाग्य कि हम दोनों अलग- अलग देशों में हैं। अनुभव होने लगा कि सुपर वुमेन बनते बनते घर के प्रति बेरुखी बढ़ती जा रही है सो अध्यापन का मोह त्याग कर ईमानदारी से घर-गृहस्थी का काम सँभालने का निश्चय किया।
दोनो बेटे अपनी अपनी दुनिया में मगन , पति को काम का नशा , अब सोचिए नारी मन पर क्या बीतेगी जो बात करना चाहे , पर कोई सुनना न चाहे। नई पोशाकों पर , नए आभूषणों पर, नए नए पकवानों पर बात करने वालों की कमी नहीं पर मन का क्या जो अपनी मन-पसंद की बात करना चाहता है। डायरी पर लिखना ऐसा जैसे गूँगे से बात करना । न प्रशंसा , न आलोचना ।
मानव प्रकृति ऐसी है जो मरते दम तक कुछ नया जानने सीखने की इच्छा रखता है। "हमारी अंदर की दुनिया के साथ ही बाहर के संसार में हर पल परिवर्तन हो रहे हैं।" (अनिल रघुराज) हर पल की जानकारी पाना मनुष्य का स्वाभाविक गुण है या कहिए अधिकार भी है। " तनावों से भरी आज की ज़िंदगी में लिखना अपने-आप में किसी थैरेपी से कम नहीं है।"(अनिल रघुराज) शत प्रतिशत सच है। कम से कम मेरे लिए तो ब्लॉगिंग सफल थैरेपी है।
ब्लॉगिंग से पहले मन विचलित रहता था। बीस साल पति के साथ रियाद में रही जहाँ बाहर के काम अक्सर घर के पुरुष ही करते हैं लेकिन दुबई आकर हर तरह से मुझे पति और बच्चों के पिता के उत्तरदायित्व भी निभाने पड़े ।अतीत की यादें पीछा न छोड़तीं। घर के काम अधूरे मन से होते तो अपराध बोध सताता । अब स्थिति अलग है। सुबह ६ बजे से रात ११ बजे तक के काम बँध गए। किस्सा कुर्सी का है कि बाकि काम खत्म करके शीघ्र ही कुर्सी पर आ जमो और लेखन लोक में आनन्द से विचरो। सच मानिए पहले कभी फुर्सत ही नहीं थी कि जाना जाए कि ब्लॉगिंग का सही अर्थ क्या है। पति वर्ड प्रेस पर एक ब्लॉग बनाकर बोले थे कि कुछ लिखो तब समय नहीं था या कहिए इस बारे में गंभीरता से सोचा भी नहीं था।
चिट्ठाजगत में हर दिन नए नए विषय उपलब्ध हैं। मेरे लिए तो ऐसा है जैसे बहुत से स्वादिष्ट व्यंजन एक साथ परोस दिए हों। समीर जी का लेख "गुणों की खान- मोटों के नाम" हास्य के साथ-साथ हौंसला दे देता है। "जाओ तो ज़रा स्टाईल से " पढ़ कर लगा कि हम अकेले ही नहीं है ऐसी बात करने वाले।
ईरान गए अपनी ईरानी सखी के पिता के चालीसवें पर , कब्रिस्तान की खूबसूरती देखकर अपनी विदाई का इंतज़ाम करने के लिए पूछ ही लिया कि क्या हम भी थोड़ी सी ज़मीन खरीद सकते हैं तो पता चला कि उनके पिताजी को उनकी बहन ने अपने नाम की जगह दी थी। सखी गुस्से से मेरी ओर देख कर बोली थी, 'तू बीशूर हस्त' । मैं सच में जानना चाहती थी लेकिन मुझे 'क़फेशोद' कह कर चुप करा दिया। जब इस बात की चर्चा परिवार और मित्रों में हुई तो हमें सनकी पुकारा गया। चिट्ठा जगत में कोई रोक-टोक नहीं , अपनी भावनाओं को दिखाने का पूरा अवसर मिलता है।
अब तो ऐसा लगता है जैसे अंर्तजाल आभासी दुनिया का दीवान-ए-आम है। जहाँ रोज़ सभा में कोई भी आकर बैठ सकता है । विचारों के आदान-प्रदान का स्वागत होता है। एक टिप्पणी मिलने की देर है आपको ढेरों रचनाएँ पढ़ने का अवसर मिल जाएगा।
अभी कुछ देर पहले मेरी रचना पर टिप्पणी करने वालों के चिट्ठे पर जाना हुआ। श्री हरे प्रसाद उपाध्याय के चिट्ठे में लेख 'कवि एथुदास' पढा , बस कुछ पंक्तियाँ मन को छू गईं - "मान-सम्मान और स्थापित होने की चिंता में तुम अमानवीय होकर रह गये हो। दिन-रात अपना झंडा गाड़ने की फिराक में लगे तुम कितने हास्यास्पद हो गये हो, इसका पता भी है तुझे! चिड़िया, फूल, पत्ते सबसे तुम जुड़े, लेकिन अपनी महत्वाकांक्षा साथ लेकर। महत्वाकांक्षा लेकर प्यार नहीं किया जाता कवि। समर्पण के साथ प्यार होता है। खुद को मिटाना पड़ता है। और तुम हो कि दुनिया को मिटाना चाहते हो खुद के लिए।"


संजीँव जी के ब्लॉग 'आवाज़' में लेख "दुनिया को जीत लेने का जज्बा रखने वाला शख्स जिंदा लाश बन गया है" पढ़ा। उन्हें कैसे बताऊँ कि इस रोग के  कई मरीज़ देवेन्द्र जी से भी बुरी स्थिति में है।


 डिवाइन इंडिया ब्लॉग में दिनकर जी की एक सुंदर पंक्ति पढ़कर मन में कुछ करने की ललक जाग उठी।
"इच्छा है, मैं बार-बार कवि का जीवन लेकर आऊँ,
अपनी प्रतिभा के प्रदीप से जग की अमा मिटा जाऊँ॥"
संजीत जी 'आवारा बंजारा ब्लॉग में  'कुछ अपनी' में एक ही क्लिक से अपने देश के बारे में इतना कुछ पढ़ने को मिल गया कि आनन्द आ गया।
अभिनव जी की निनाद गाथा में रेडिया सलाम नमस्ते सुनकर तो हम दंग रह गए।  पारुल जी ने अपने लेखन से ही नहीं अपनी मधुर आवाज़ से भी मन जीत लिया। अर्बुदा की कविता में छायावाद का सुन्दर रूप दिखने पर युनिवर्सिटी के पुराने दिन याद आने लगे जब कवि जयशंकर प्रसाद की कविताओं का पाठ किया करते थे। देवाशीष जी की बुनो कहानी में जाकर कहानी लिखने का पुराना शौक जाग उठा। यही नहीं वहाँ सभी लिखने वालों को पढ़ा । लगा कि अभी बहुत कुछ जानना सीखना है।
संजय पटेल जी का लेख 'फब्तियाँ कसने वाले भूल जाते हैं कि जीत दिलाने वाला एक मुसलमान भी है' पढ़कर मन प्रसन्न हो गया। "राजनीति से जितना दूर रहें..वही बेहतर है आज के माहौल में... लेकिन गर हर आदमी यही सोचेगा तो भी कुछ भला नहीं होने वाला है...कीचड़ साफ करने के लिए कीचड़ में उतरना ही होगा" राजीव तनेजा जी की टिप्पणी ने ही सोचने पर विवश कर दिया कि किसी हद तक हम भी दोषी हैं।
यतीष जैन जी का क़तरा-क़तरा में कई अच्छी कविताओं ने मन पर निशाँ छोड़ दिए उनमें से 'खाली है पोस्ट' अच्छा हास्य व्यंग्य है और हम सब को संदेश भी मिलता है कि ज़ीरो को चिड़ाने का अवसर नहीं देना चाहिए। शास्त्री जी का सारथी ही नहीं , उनसे जुड़े कई चिट्ठों से दुनिया भर की जानकारी मिलती है।
मन मेँ उठे भाव तो उन्हें आपके साथ बाँट लिया अगर बेकार लगें तो पढ़ना बन्द कर दें पर नाराज़ न हों।

5 comments:

Udan Tashtari said...

अरे, यह तो एक प्रकार से चिट्ठा चर्चा ही हो गई. http://chitthacharcha.blogspot.com/

आपको तो चिट्ठाचर्चा टीम में होना चाहिये. आजकल वैसे भी वो अनियमित सी हो गई है. :)
बहुत अच्छा विश्लेषण अपनी कथा से जोड़कर पेश किया है. बढ़िया लगा. लिखते रहें. शुभकामनायें.

pallavi trivedi said...

बढ़िया...पहले इसे नहीं पढ़ा था! मैंने ब्लॉग २००८ में शुरू किया था! इसके पहले की पोस्ट की जानकारी आपने दे दी!

rashmi ravija said...

इस पोस्ट के माध्यम से कई पुराने चिट्ठों के बारे में जानकारी मिली
अनिल रघुराज जी से दो बार मिल चुकी हूँ...पर उनका लिखा अब तक पढना बाकी था. आज पढ़ लिया. .शुक्रिया

Anonymous said...

bahoot umda likha hai, purani yaad taza ho gayee

ZEAL said...

बहुत अच्छी लगी ये चिटठा चर्चा। मौका मिला नए लोगों को जानने का।