Monday, September 17, 2007

राजनीति से दूर

बात उन दिनों की है जब मैं कॉलेज के दूसरे साल में थी । पापा राज्य गृहमन्त्री के उप-सहायक के रूप में काम रहे थे। मन्त्री जी की बेटी मेरी हमउम्र थी सो घर में आना-जाना शुरु हो गया। एक दिन मन्त्री जी के बेटे ने मुझे 'यूथ कांग्रेस' में शामिल होने को कहा तो हाथ जोड़कर माफ़ी माँग ली। दोस्ती और राजनीति में से मैंने दोस्ती को ज़्यादा महत्तव दिया। बस उसी शाम इस कविता ने जन्म लिया क्योंकि लाख सोचने पर भी मैं राजनीति में जाने का साहस न कर पाई। साहस नहीं था या कायरता थी। कोई भी नाम दे दीजिए लेकिन कविता ज़रूर पढ़िए।

भ्रष्ट राजनीति या भ्रष्ट सभी नीति
सही करने का नहीं कोई solution .

भ्रष्टाचारियों, अत्याचारियों से समाज में
फैल गया है चारों ओर pollution .

जीवन के हर क्षेत्र में फैल चुका है corruption
अब तो शायद कभी हो इसमे कोई interruption.

भ्रष्टाचार में लिप्त नेता जनता को देता नहीं education
बेचारी अनपढ़ जनता का होता रहता है manipulation.

धूर्त नेताओं के कारण सिर पर आता बार-बार election
सूझे नहीं भोली जनता को कैसे करें सही selection .

संघर्षों में जूझते लोगों को मिलती नहीं protection
निम्न वर्ग मैं सदा होता रहता है discrimination.

प्रगति के रास्ते पर बढ़ने को मिले सही direction
विकसित हो देश हमारा करते हैं यही imagination.

6 comments:

जोगलिखी संजय पटेल की said...

मीनाक्षी जी...
राजनीति से दूरी बना कर शब्दों की दुनिया में बने रहने के लिये साधुवाद. संजीदा रहने के लिये राजतंत्र से दूर रहना ही भला.

neeshoo said...

मीनाक्षी जी आपकी कविता गजब की है , मस्त लिखा है आपने।

rajivtaneja said...

बहुत ही सटीक कविता रचने के लिए बधाई...
राजनीति से जितना दूर रहें..वही बेहतर है आज के माहोल में... लेकिन गर हर आदमी यही सोचेगा तो भी कुछ भला नहीं होने वाला है...कीचड साफ करने के लिए कीचड में उतरना ही होगा

Udan Tashtari said...

यह सब तो अपनी सोच के अनुरुप ही डिसीजन लिये जाते है, अच्छा किया. और कविता भी अच्छी बन पड़ी है.

मीनाक्षी said...

आपने समय निकाल कर मेरी रचना को पढ़ा और सराहा
आप सब का बहुत बहुत धन्यवाद

deepanjali said...

आपका ब्लोग बहुत अच्छा लगा.
ऎसेही लिखेते रहिये.
क्यों न आप अपना ब्लोग ब्लोगअड्डा में शामिल कर के अपने विचार ऒंर लोगों तक पहुंचाते.
जो हमे अच्छा लगे.
वो सबको पता चले.
ऎसा छोटासा प्रयास है.
हमारे इस प्रयास में.
आप भी शामिल हो जाइयॆ.
एक बार ब्लोग अड्डा में आके देखिये.